Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
Jul 10, 2022 · 1 min read

कुछ नहीं इंसान को

कुछ नहीं इंसान को
बस इंसान बना देती है ।
मुफ़लिसी सोच का
हर फ़र्क मिटा देती है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

6 Likes · 1 Comment · 35 Views
You may also like:
हर बच्चा कलाकार होता है।
लक्ष्मी सिंह
आईना
Buddha Prakash
ए बदरी
Dhirendra Panchal
मायके की धूप रे
Rashmi Sanjay
✍️किताबें और इंसान✍️
"अशांत" शेखर
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Raju Gajbhiye
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
किताब।
Amber Srivastava
✍️साबिक़-दस्तूर✍️
"अशांत" शेखर
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
कहानी *"ममता"* पार्ट-5 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
किसे फर्क पड़ता है।(कविता)
sangeeta beniwal
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
हौसले मेरे
Dr fauzia Naseem shad
हर हाल में ख़ुदी को
Dr fauzia Naseem shad
उलझन
Anamika Singh
Loading...