Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 10, 2017 · 1 min read

==कुछ तो कीजिए ==

चमन में खिलेंगे गुल भी,
थोड़ा इंतजार तो कीजिए।
कुदरत ने किया श्रृंगार ,
थोड़ा दीदार तो कीजिए।
मानेंगे रूठे यार,
थोड़ी मनुहार तो कीजिए।
उड़ जाएंगे दिलों के गुबार,
थोड़ा सा प्यार तो कीजिए।
छंट जाएंगे गम के बादल,
थोड़ा मुस्कुरा तो दीजिए।
आएंगे सुख के दिन भी,
थोड़ा एतबार तो कीजिए।
चलेगी शीतल सी बयार,
जरा एहसास तो कीजिए।
कल चमन में छाएगी बहार,
आज आप ऐसी ही,
कुछ करामात तो कीजिए।

–रंजना माथुर दिनांक 09/07/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना)
©

200 Views
You may also like:
पिता
Aruna Dogra Sharma
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Deepali Kalra
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
धन्य है पिता
Anil Kumar
इश्क
Anamika Singh
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...