कुछ तो कमी सी है ….

कुछ तो कमी सी है ….

क्यू लगे रुखा सा कुछ तो कमी सी है !
जिंदगी में तेरे बिन, कोई कमी सी है !!

नीरस मन शुष्क तन, सूरत हुई बंजर
फिर भी अधरों पे ढली कुछ नमी सी है !!

थकावट से चूर हूँ पर अभी मैं थका नही
तन में साँसे अभी जरा जरा थमी सी है !!

लहू का दौर कुछ कमतर नजर आता है
कड़क तन में नब्ज लगती अब जमी सी है !!

शोभा तो तुम ही हो इस अहले चमन की
बिन तेरे गुलशन में उदासी लगे रमी सी है !!

!
!
!
डी. के, निवातियाँ __________@

192 Views
You may also like:
अप्सरा
Nafa writer
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
दिल,एक छोटी माँ..!
मनोज कर्ण
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🍀🌸🍀🌸आराधों नित सांय प्रात, मेरे सुतदेवकी🍀🌸🍀🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
भाग्य का फेर
ओनिका सेतिया 'अनु '
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
मातृ रूप
श्री रमण
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
दहेज़
आकाश महेशपुरी
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
हाइकु_रिश्ते
Manu Vashistha
Loading...