Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 3, 2022 · 2 min read

“कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें”

🌹कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें🌹
=======================

ना तुम आती अपनी आदतों से बाज,
अनसुनी करते हम भी तेरी फ़रियाद ,
सच है, सच्चाई को छूती तेरी हर बात,
पर तू समझ ना पाती मेरे हर जज़्बात,
घुटन सी लगती… एक दूसरे का साथ,
सुनो, कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

क्यों होता ये अक्सर ही हमारे साथ…
हम नहीं करते एक दूसरे को बर्दाश्त ,
हमें लगता है तेरी हर बात बेबुनियाद,
तुम्हें भी सुकून नहीं देता हमारा साथ,
फ़िज़ूल बहस में होती तबियत ख़राब,
सुनो, कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

हर कार्य अपने पूरे करता मैं देर रात,
पर तू सदैव कहती करने प्रातः काल,
मैं अपनी धुन में न सुनता तेरी ये बात,
तू भी ज़िद पे अड़ी टोकती दिन – रात,
जो भी हो, ठीक नहीं आपस में ये रार,
सुनो, कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

लगा रहता दोस्तों का सतत आना-जाना,
मुझे भी पसंद है संग मिलके बातें बनाना,
बिगड़ती दिनचर्या,न कोई वक्त का पैमाना,
इन्हीं बातों पे शुरू हो जाता तेरा इतराना,
छोटी-छोटी बात का यूॅं ही बतंगड़ बनाना,
नापसंद मुझे ज़िंदगी का यूॅं तंगहाल होना,
सुनो…. कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

जुदा है तेरी हर सोच संग कार्य प्रणाली,
है तू मन की मतंग , थोड़ी सी मतवाली,
हाॅं दिखाती जोश व जज़्बे हिम्मतवाली,
जाता जब मैं पूरब, तू पश्चिम जानेवाली,
विविध सोच से गृहस्थी नहीं चलनेवाली ,
बदलनी ही होगी अब हमारी जीवन शैली,
सुनो…. कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

ज़्यादा पसंद नहीं करता मैं घूमना-फिरना,
यूॅं ही फ़िज़ूल में अपना वक्त ज़ाया करना,
ज़रूरी होने पर ही चाहता बाहर निकलना,
पर तुझे पसंद नहीं मेरा पुराना सोच रखना,
तू चाहती आज के युग जैसा आगे बढ़ाना,
पर मुझे भी पसंद नहीं तेरा ये ताना – बाना,
फिर भी कुछ बदलाव जरूरी है हमें करना,
अब चलो, कुछ तुम बदलो,कुछ हम बदलें।

© अजित कुमार “कर्ण” ✍️
~ किशनगंज ( बिहार )
( स्वरचित एवं मौलिक )
@सर्वाधिकार सुरक्षित ।
दिनांक :- 10 / 05 / 2022.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

9 Likes · 2 Comments · 156 Views
You may also like:
یہ سوکھے ہونٹ سمندر کی مہربانی
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं
Dr fauzia Naseem shad
नई जिंदगानी
AMRESH KUMAR VERMA
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
" छुपी प्रतिभा "
DrLakshman Jha Parimal
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
कुमार अविनाश केसर
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️मेरी शख़्सियत✍️
'अशांत' शेखर
प्राकृतिक उपचार
Vikas Sharma'Shivaaya'
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
जीतने की उम्मीद
AMRESH KUMAR VERMA
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️आखरी सफर पे हूँ...✍️
'अशांत' शेखर
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
जज बना बे,
Dr.sima
तुम्हें जन्मदिन मुबारक हो
gurudeenverma198
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
कबसे चौखट पे उनकी पड़े ही पड़े
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी: एक संघर्ष
Aditya Prakash
"DIDN'T LEARN ANYTHING IF WE DON'T PRACTICE IT "
DrLakshman Jha Parimal
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
राजनीति ओछी है लोकतंत्र आहत हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
💐💐सेवा अर्थात् विलक्षणं सुखं💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...