Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2022 · 2 min read

“कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें”

🌹कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें🌹
=======================

ना तुम आती अपनी आदतों से बाज,
अनसुनी करते हम भी तेरी फ़रियाद ,
सच है, सच्चाई को छूती तेरी हर बात,
पर तू समझ ना पाती मेरे हर जज़्बात,
घुटन सी लगती… एक दूसरे का साथ,
सुनो, कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

क्यों होता ये अक्सर ही हमारे साथ…
हम नहीं करते एक दूसरे को बर्दाश्त ,
हमें लगता है तेरी हर बात बेबुनियाद,
तुम्हें भी सुकून नहीं देता हमारा साथ,
फ़िज़ूल बहस में होती तबियत ख़राब,
सुनो, कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

हर कार्य अपने पूरे करता मैं देर रात,
पर तू सदैव कहती करने प्रातः काल,
मैं अपनी धुन में न सुनता तेरी ये बात,
तू भी ज़िद पे अड़ी टोकती दिन – रात,
जो भी हो, ठीक नहीं आपस में ये रार,
सुनो, कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

लगा रहता दोस्तों का सतत आना-जाना,
मुझे भी पसंद है संग मिलके बातें बनाना,
बिगड़ती दिनचर्या,न कोई वक्त का पैमाना,
इन्हीं बातों पे शुरू हो जाता तेरा इतराना,
छोटी-छोटी बात का यूॅं ही बतंगड़ बनाना,
नापसंद मुझे ज़िंदगी का यूॅं तंगहाल होना,
सुनो…. कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

जुदा है तेरी हर सोच संग कार्य प्रणाली,
है तू मन की मतंग , थोड़ी सी मतवाली,
हाॅं दिखाती जोश व जज़्बे हिम्मतवाली,
जाता जब मैं पूरब, तू पश्चिम जानेवाली,
विविध सोच से गृहस्थी नहीं चलनेवाली ,
बदलनी ही होगी अब हमारी जीवन शैली,
सुनो…. कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

ज़्यादा पसंद नहीं करता मैं घूमना-फिरना,
यूॅं ही फ़िज़ूल में अपना वक्त ज़ाया करना,
ज़रूरी होने पर ही चाहता बाहर निकलना,
पर तुझे पसंद नहीं मेरा पुराना सोच रखना,
तू चाहती आज के युग जैसा आगे बढ़ाना,
पर मुझे भी पसंद नहीं तेरा ये ताना – बाना,
फिर भी कुछ बदलाव जरूरी है हमें करना,
अब चलो, कुछ तुम बदलो,कुछ हम बदलें।

© अजित कुमार “कर्ण” ✍️
~ किशनगंज ( बिहार )
( स्वरचित एवं मौलिक )
@सर्वाधिकार सुरक्षित ।
दिनांक :- 10 / 05 / 2022.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

Language: Hindi
Tag: कविता
9 Likes · 2 Comments · 420 Views
You may also like:
23 मार्च
Shekhar Chandra Mitra
एक सोच ऐसी रखों जो बदल दे ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
अपनों से न गै़रों से कोई भी गिला रखना
Shivkumar Bilagrami
नौकरी
Buddha Prakash
✍️अलहदा✍️
'अशांत' शेखर
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बेटियां
Shriyansh Gupta
आज के रिश्ते!
Anamika Singh
हैं शामिल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
इन्द्रधनुष
Saraswati Bajpai
माँ ब्रह्मचारिणी
Vandana Namdev
*#स्वामी_विवेकानंद* 【 _कुंडलिया_ 】
Ravi Prakash
पधारो नाथ मम आलय, सु-स्वागत सङ्ग अभिनन्दन।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विन्यास
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहां से दुआओं में असर आए।
Taj Mohammad
सच्ची मोहब्बतें कहां पैसों का खेल है!
अशांजल यादव
जश्न आजादी का
Kanchan Khanna
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
विद्यालय
श्री रमण 'श्रीपद्'
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ लघु व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
"अल्मोड़ा शहर"
Lohit Tamta
रस्म
जय लगन कुमार हैप्पी
दीयो के मन की संवेदना
Ram Krishan Rastogi
👀👁️🕶️मैंने तुम्हें देखा,कई बार देखा🕶️👁️👀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
४० कुंडलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फरेबी दुनिया की मतलब प्रस्दगी
Umender kumar
सुई-धागा को बनाया उदरपोषण का जरिया
Shyam Hardaha
Loading...