Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।

कशमकश भरी इस जिन्दगी से दूर,
चलो कुछ पल के लिए हम निकलें,
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
पलभर की है ये जिंदगानी,
पलभर की ये जवानी है।
फिर क्यों है इतने राग-द्वेष?
क्यों इतनी खींचातानी है?
कसा-कसी की जिन्दगी से,
चलो कुछ दूर हम निकलें,
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।।
मानव करते मानव से बैर,
दोनों का नहीं है इसमें खैर।
फिर भी षड्यंत्र रचाते हैं,
नर ही नर से टकराते हैं।
छोड़ के सारे रंजिश को,
प्यार के कुछ पल हम जी लें,
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।।
जो कान फूंकते हैं हरदम,
जन-मन में भेद कराते हैं।
ये वो नेता हैं,जो अपनी रोटी,
दूसरों के चूल्हों पे पकाते हैं।
विकारों को मन से दूर हटा,
हर्षित मन से हम जी लें,
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।।
न मुट्ठी भरकर हम आए,
न कुछ लेकर के जाएंगे।
जग में भी हमनें जो पाया,
सब यहीं धरे रह जाएंगे।
लोभ मोह का करें त्याग,
स्वच्छंद विचारों को जी लें,
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।।

🙏🙏🙏🙏🙏
रचना- मौलिक एवं स्वरचित
निकेश कुमार ठाकुर
गृह जिला- सुपौल (बिहार)
संप्रति- कटिहार (बिहार)
सं०-9534148597

5 Likes · 3 Comments · 72 Views
You may also like:
✍️KITCHEN✍️
"अशांत" शेखर
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
Vijaykumar Gundal
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
कृष्ण पक्ष// गीत
Shiva Awasthi
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आदर्श पिता
Sahil
# महकता बदन #
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ईमानदारी
AMRESH KUMAR VERMA
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
इज्जत
Rj Anand Prajapati
"मेरे पापा "
Usha Sharma
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
Little baby !
Buddha Prakash
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
"अशांत" शेखर
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
Loading...