Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 23, 2022 · 1 min read

कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है

कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे हैं,
कुछ आपसी झगड़े भुलाए बैठे है।
लूट सके इस सारे भारत को वो,
ये उम्मीद आज वे लगाए बैठे है।।

पल रहे है कुछ गलत खानदान,
करा रहे है देश में गलत मतदान।
मुफ्त पानी बिजली देकर है वो,
लूट रहे है आज वे पूरा हिंदुस्तान।

देश में भ्रष्टाचार का बोल बाला है,
यहां सच्चे के मुंह पे लगा ताला है।
न्याय न्यायालयों में है बिक रहा,
अब तो ऊपर वाला ही रखवाला है।।

आदमी आदमी के तलवे चाटने लगा है,
मतलब से गधे को बाप बनाने लगा है।
जब मतलब निकल जाए उसका,
पतली गली से वह निकलने लगा है।।

कुछ खानदान पानदान भी बेच रहे है,
कुछ देश अपना खानपान बेच रहे है।
कुछ लोग तो इतना गिर चुके है आज,
वे अपना धर्म ईमान भी बेच रहे है।।

आज आदमी आदमी को काटने लगा है,
हर आदमी अपना ज्ञान बांटने लगा है।
भले ही वह मूर्ख हो इस दुनिया में,
वह अपने को होशियार समझने लगा है।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

4 Likes · 4 Comments · 168 Views
You may also like:
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
✍️माय...!✍️
"अशांत" शेखर
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
✍️दम-भर ✍️
"अशांत" शेखर
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
मोहब्बत की बातें।
Taj Mohammad
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr. Alpa H. Amin
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
सीख
Pakhi Jain
जीवन मे कभी हार न मानों
Anamika Singh
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
नुमाइशों का दौर है।
Taj Mohammad
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का पता
श्री रमण
हे गुरू।
Anamika Singh
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
Loading...