Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2022 · 1 min read

कुछ जुगनू उजाला कर गए हैं।

वह आ करके महफिल में जब नजरों से इशारा कर गए हैं।
गमों के अंधेरों में खुशियों के कुछ जुगनू उजाला कर गए हैं।।1।।

इससे पहले राहते ना थी हमारी इस तन्हा जिन्दगी में।
पर वो अपना बनाकर हमको जीने का सहारा दे गए हैं।।2।।

चाहत ना थी जिन्दगी जीने की हमको इस दुनियां में।
डूबती कश्ती को हमारी समन्दर का किनारा दे गए हैं।।3।।

खरीद कर उनके बनाए सारे के सारे मिट्टी के दिए।
बनकर फरिश्ता वो गरीबों के घर चश्मे चरागा कर गए हैं।।4।।

मदद की उम्मीद क्या करें सब ही हम पर हंस रहे हैं।।
इश्क में हम तमाशाई आंखों का नज़ारा बन गए है।।5।।

कोई ना कर्ज़ चुका पाएगा उन शहीद वीरों का।
जो सरफरोश आज़ाद ए हिन्द इंकलाब का नारा दे गए हैं।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

3 Likes · 68 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
हिडनवर्ग प्रपंच
हिडनवर्ग प्रपंच
मनोज कर्ण
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
तसल्ली मुझे जीने की,
तसल्ली मुझे जीने की,
Vishal babu (vishu)
जाति का बंधन
जाति का बंधन
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-513💐
💐प्रेम कौतुक-513💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
सत्य को अपना बना लो,
सत्य को अपना बना लो,
Buddha Prakash
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
"अनमोल सौग़ात"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यह मन
यह मन
gurudeenverma198
रिश्ते रिसते रिसते रिस गए।
रिश्ते रिसते रिसते रिस गए।
Vindhya Prakash Mishra
One day you will leave me alone.
One day you will leave me alone.
Sakshi Tripathi
रंगों की दुनिया में सब से
रंगों की दुनिया में सब से
shabina. Naaz
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
कभी नहीं है हारा मन (गीतिका)
surenderpal vaidya
BLACK DAY (PULWAMA ATTACK)
BLACK DAY (PULWAMA ATTACK)
Jyoti Khari
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माँ
माँ
meena singh
मुबहम हो राह
मुबहम हो राह
Satish Srijan
अबोध प्रेम
अबोध प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
खुशबू बन कर
खुशबू बन कर
Surinder blackpen
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शर्तो पे कोई रिश्ता
शर्तो पे कोई रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
"साड़ी"
Dr. Kishan tandon kranti
■ इसे भूलना मत...
■ इसे भूलना मत...
*Author प्रणय प्रभात*
कहानी *
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
Radhakishan Mundhra
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
Ravi Prakash
Loading...