Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

कुछ घनाक्षरी छंद

कुछ घनाक्षरी छंद
★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★★
छन्द जो घनाक्षरी मैं लिखने चला हूँ आज, मुझको बताएँ जरा कहाँ कहाँ दोष है।
या कि मैँ हूँ मन्दबुद्धि लिख नहीँ पाता कुछ, सिर पे ये झूठ ही सवार हुआ जोश है।
मेरी कविता से नुकशान बड़ा गृहिणी का, प्यारे इस छन्द ने कि छीन लिया होश है।
सफल नहीँ हूँ यदि छन्द लिखने मे कहीँ, लिखूँ कुछ और भाई मुझे परितोष है।
★★★
नेता अब करते हैं अपनी ही स्वार्थ सिद्धि, जनता से नहीं कुछ इन्हें सरोकार है।
लूटने-खसोटने में लगीं हुईं सरकारें, लगता कि इनका तो यही कारोबार है।
हम तो गरीब जन रात-दिन बार बार, डूबते हैं पर नहीं मिले पतवार है।
जितने घोटालेबाज हो गए अमीर सब, जनता पे ज़ुल्म करती ये सरकार है।
★★★
अपने में गुम रहूँ अब गुमसुम रहूँ, किसी को भी खुश क्यों मैं यार नहीं करता।
सच कहते है सभी गलती करूँ मैं रोज, पर एक बार भी स्वीकार नहीँ करता।
यह भी तो सत्य है कि बावला हुआ हूँ अब, सोच व विचार एक बार नहीं करता।
सब है पसंद पर यह मत कहना कि, आदमी हूँ आदमी से प्यार नहीं करता।
★★★
कितने बेचैन होके काम रोज करते हैं, जीने के लिए ही बार बार हाय मरते।
जिन्दगी मिली है सच कहती है दुनिया ये, पर कहाँ पर है तलाश रोज करते।
हमको तो लगता कि दुख ही की दुनिया ये, दुख से ही दुख में ही दुख हम भरते।
इसीलिए दुख के पहाड़ हों या झील कोई, दुखी हम इतने कि दुख सब डरते।

– आकाश महेशपुरी

483 Views
You may also like:
कर्म का मर्म
Pooja Singh
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr.Priya Soni Khare
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
सुन्दर घर
Buddha Prakash
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...