Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 15, 2017 · 1 min read

=*= कुछ अच्छा हो जाए =*=

तकलीफों से न तू सबक ले,
जो न करे गुरूर को नष्ट।
अहंकार का जोश दिख रहा,
हो रहा है तू क्यों पथ-भ्रष्ट।
जो तू आज कर रहा प्राणी,
खुशी है कुछ पल की, हे धृष्ट।
इनकी परिणति कैसी होगी,
तुझे आभास नहीं है दुष्ट।
जैसी करनी वैसी भरनी,
बुरे कर्म का फल है कष्ट।
ऊपर वाला न्याय है करता,
उस से बचा न कोई निकृष्ट।
आज नहीं तो कल तो होगा,
तेरा यह खेल नष्ट-भ्रष्ट।
इसीलिये कहते हैं प्राणी,
कर ले कुछ-कुछ तो उत्कृष्ट।
कुछ-कुछ छवि सुधार ले अपनी,
कि ऊपर वाला भी हो आकृष्ट।

—-रंजना माथुर दिनांक 06/03/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

211 Views
You may also like:
पापा
सेजल गोस्वामी
यादें
kausikigupta315
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Manisha Manjari
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...