Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

कुछ अच्छा करने की चाहत है

कुछ अच्छा करने की चाहत है,
प्रभु तुम बिन ये पूरा न होगा ,
हर पल ध्यान में रहते हो तुम ,
तुम ही मेरी प्रेरणा हो।
आशीर्वाद तुम्हारा मिलता रहे प्रभु,
बस इतनी से चाहत है,
कुछ कर गुजरने की हसरत है।
अपने लिए जानवर भी जीते प्रभु,
मानव जीवन जो दिया है तुमने तो,
अपनो के लिए कुछ कर गुजरने की मनोरथ है।
हे प्रभु इतना देना की हाथ मेरा खाली न रहे,
अधिक कुछ पाने की इच्छा नही
पर किसी की मदद न कर पाने का मलाल न रहे।

1 Like · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह शहर पत्थर दिलों का
यह शहर पत्थर दिलों का
VINOD CHAUHAN
क्या आसमां और क्या जमीं है,
क्या आसमां और क्या जमीं है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चंद्रयान ३
चंद्रयान ३
प्रदीप कुमार गुप्ता
अगर कोई आपको गलत समझ कर
अगर कोई आपको गलत समझ कर
ruby kumari
मासूमियत
मासूमियत
Punam Pande
वो सांझ
वो सांझ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2441.पूर्णिका
2441.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राजनीति के नशा में, मद्यपान की दशा में,
राजनीति के नशा में, मद्यपान की दशा में,
जगदीश शर्मा सहज
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
जनक दुलारी
जनक दुलारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
#गीत
#गीत
*प्रणय प्रभात*
गैस कांड की बरसी
गैस कांड की बरसी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
में बेरोजगारी पर स्वार
में बेरोजगारी पर स्वार
भरत कुमार सोलंकी
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कभी न दिखावे का तुम दान करना
कभी न दिखावे का तुम दान करना
Dr fauzia Naseem shad
जब किनारे दिखाई देते हैं !
जब किनारे दिखाई देते हैं !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
अतीत के पन्ने (कविता)
अतीत के पन्ने (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
Dr. Kishan Karigar
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
-- मंदिर में ड्रेस कोड़ --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
उफ ये सादगी तुम्हारी।
उफ ये सादगी तुम्हारी।
Taj Mohammad
बोला कौवा क्या करूॅं ,मोटी है आवाज( कुंडलिया)
बोला कौवा क्या करूॅं ,मोटी है आवाज( कुंडलिया)
Ravi Prakash
इस शहर में
इस शहर में
Shriyansh Gupta
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
"सदियों का सन्ताप"
Dr. Kishan tandon kranti
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
मेरी साँसों में उतर कर सनम तुम से हम तक आओ।
मेरी साँसों में उतर कर सनम तुम से हम तक आओ।
Neelam Sharma
Loading...