Sep 14, 2016 · 1 min read

कुकुभ छंद और ताटंक छंद ( हिंदी दिवस पर )

कुकुभ छंद -२
देश की एकता, अखण्डता, सबकी वाहक है हिंदी
भाव, विचार, पूर्णता, संस्कृति, सभी का प्रतिरूप हिंदी |
आम जन की मधुर भाषा है, भारत को नई दिशा दी
है विदेश में भी यह अतिप्रिय, लोग सिख रहे हैं हिंदी ||

सहज सरल है लिखना पढ़ना, सरल है हिन्द की बोली
संस्कृत तो माता है सबकी, बाकी इसकी हम जोली |
हिंदी में छुपी हुई मानो, आम लोग की अभिलाषा
जोड़ी समाज की कड़ी कड़ी, हिंदी जन-जन की भाषा ||

ताटंक -१
देश की होगी उन्नति तभी, जब उन्नत होगी हिंदी
कन्याकुमारी से श्रीनगर, जब बोली होगी हिंदी |
अनेकता और एकता का, स्वर उठाती यही हिंदी
प्रेम और सौहाद्र का अलग, दूजा नाम यही हिंदी ||
मौलिक और अप्रकाशित

1 Comment · 557 Views
You may also like:
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
ममता की फुलवारी माँ हमारी
Dr. Alpa H.
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
गांव के घर में।
Taj Mohammad
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
अब तो दर्शन दे दो गिरधर...
Dr. Alpa H.
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लड़कियों का घर
Surabhi bharati
दादी मां बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
मां
Dr. Rajeev Jain
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐ जिन्दगी
Anamika Singh
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
लड़ते रहो
Vivek Pandey
** यकीन **
Dr. Alpa H.
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H.
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
सट्टेबाज़ों से
Suraj Kushwaha
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
**किताब**
Dr. Alpa H.
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
ग़ज़ल
kamal purohit
Loading...