Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2016 · 1 min read

कुंडलिया

चित्र अभिव्यक्ति-
“कुंडलिया”

बर्फ़ीले पर्वत धरें, चादर अमल सफ़ेद
लाल तिरंगा ले खड़ा, भारत किला अभेद
भारत किला अभेद, हरा केसरिया झंडा
धवल मध्य में चक्र, शांति सुनहरा डंडा
कह गौतम चितलाय, युद्ध अतिशय ख़र्चीले
छद्म पाँव गलि जांय, पाक पर्वत बर्फ़ीले॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

190 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कितने बड़े हैवान हो तुम
कितने बड़े हैवान हो तुम
मानक लाल मनु
जीवन
जीवन
लक्ष्मी सिंह
ईश्वर की अदालत
ईश्वर की अदालत
Anamika Singh
One fails forward toward success - Charles Kettering
One fails forward toward success - Charles Kettering
पूर्वार्थ
#बहुत_जल्द
#बहुत_जल्द
*Author प्रणय प्रभात*
सब्र
सब्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक्त का घुमाव तो
वक्त का घुमाव तो
Mahesh Tiwari 'Ayan'
खाओ जलेबी
खाओ जलेबी
surenderpal vaidya
*लक्ष्मण (कुंडलिया)*
*लक्ष्मण (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ऊपरी इनकम पर आनलाईन के दुष्प्रभाव(व्यंग )
ऊपरी इनकम पर आनलाईन के दुष्प्रभाव(व्यंग )
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
चाहने लग गए है लोग मुझको भी थोड़ा थोड़ा,
Vishal babu (vishu)
💐Prodigy Love-30💐
💐Prodigy Love-30💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )
दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )
Subhash Singhai
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Mai pahado ki darak se bahti hu,
Sakshi Tripathi
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
Education
Education
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खास हो तुम
खास हो तुम
Satish Srijan
शराब सहारा
शराब सहारा
Anurag pandey
पितृ दिवस134
पितृ दिवस134
Dr Archana Gupta
कितनी महरूमियां रूलाती हैं
कितनी महरूमियां रूलाती हैं
Dr fauzia Naseem shad
अपने दिल को।
अपने दिल को।
Taj Mohammad
2754. *पूर्णिका*
2754. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महामना मदन मोहन मालवीय
महामना मदन मोहन मालवीय
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
स्वदेशी के नाम पर
स्वदेशी के नाम पर
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
हम समुंदर का है तेज, वह झरनों का निर्मल स्वर है
Shubham Pandey (S P)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...