Sep 23, 2016 · 1 min read

कुंडलिया

चित्र अभिव्यक्ति-
“कुंडलिया”

बर्फ़ीले पर्वत धरें, चादर अमल सफ़ेद
लाल तिरंगा ले खड़ा, भारत किला अभेद
भारत किला अभेद, हरा केसरिया झंडा
धवल मध्य में चक्र, शांति सुनहरा डंडा
कह गौतम चितलाय, युद्ध अतिशय ख़र्चीले
छद्म पाँव गलि जांय, पाक पर्वत बर्फ़ीले॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

90 Views
You may also like:
एक पिता की जान।
Taj Mohammad
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
Angad tiwari
Angad Tiwari
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हे विधाता शरण तेरी
Saraswati Bajpai
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मिसाइल मैन
Anamika Singh
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
**किताब**
Dr. Alpa H.
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
** यकीन **
Dr. Alpa H.
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
Loading...