Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 21, 2016 · 1 min read

कुंडलिया

“कुंडलिया”

ढोंगी करता ढोंग है, नाच जमूरे नाच
बांदरिया तेरी हुई, साँच न आए आंच
साँच न आए आंच, मुर्ख की चाह बावरी
हो जाते गुमराह, काटते शीश मदारी
कह गौतम चितलाय, पाक है पंडित पोंगी
अस्त्र शस्त्र पकड़ाय, आतंक परोषे ढोंगी॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

320 Views
You may also like:
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
देश के नौजवानों
Anamika Singh
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादें
kausikigupta315
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...