Sep 15, 2016 · 1 min read

कुंडलिया

“कुंडलिया”

अनंत चतुर्थी पावनी, गणपति गिरिजा नेह
विघ्न विनाशक को नमन, शिव सुत सत्य स्नेह
शिव सुत सत्य स्नेह, गजानन आभा मंडित
वेदों के रखवार, ज्ञान गुरुता के पंडित
कह गौतम चितलाय, पूजहि यह चाँद तुरंत
रिद्धि सिद्धि हरषाय, विनायक महिमा अनंत॥

महातम मिश्रा, गौतम गोरखपुरी

86 Views
You may also like:
उन्हें आज वृद्धाश्रम छोड़ आये
Manisha Manjari
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H.
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
लगा हूँ...
Sandeep Albela
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" राजस्थान दिवस "
The jaswant Lakhara
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
# पिता ...
Chinta netam मन
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H.
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...