Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2023 · 1 min read

कुंडलिया छंद

कर सकते हैं हम कभी,जीवन की शुरुआत।
मन में रखना हौसला , बन जाएगी बात।
बन जाएगी बात , यही सब कहते प्यारे।
मत समझो असमर्थ ,न खोजो बैठ सहारे।
जिनमें जोश जुनून ,नहीं वे राही थकते।
यदि होती है चाह, प्राप्त हम सब कर सकते।।1

रहे सताता रात भर ,मुझको जिसका प्यार।
देख उसी को मैं सदा ,जाती हूँ दिल हार।
जाती हूँ दिल हार, देख मुस्कान निराली।
कर देती है मुग्ध ,छटा अद्भुत मतवाली।
वह है मेरा पुत्र , और मैं उसकी माता।
रो- रो कर फरियाद, मुझे वह रहे सताता।।2

डाॅ बिपिन पाण्डेय

3 Likes · 58 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-184💐
💐प्रेम कौतुक-184💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*
*"शबरी"*
Shashi kala vyas
कभी जब देखोगी तुम
कभी जब देखोगी तुम
gurudeenverma198
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
★उसकी यादों का साया★
★उसकी यादों का साया★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
दामन
दामन
Dr. Rajiv
यकीन वो एहसास है
यकीन वो एहसास है
Dr fauzia Naseem shad
कागजी फूलों से
कागजी फूलों से
Satish Srijan
तन्हाईयाँ
तन्हाईयाँ
Shyam Sundar Subramanian
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
प्रकृति सुनाये चीखकर, विपदाओं के गीत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
सूर्य के ताप सी नित जले जिंदगी ।
Arvind trivedi
चंदा की डोली उठी
चंदा की डोली उठी
Shekhar Chandra Mitra
यूँ इतरा के चलना.....
यूँ इतरा के चलना.....
Prakash Chandra
अभी-अभी
अभी-अभी
*Author प्रणय प्रभात*
नई शिक्षा
नई शिक्षा
अंजनीत निज्जर
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
DrLakshman Jha Parimal
स्वप्न श्रृंगार
स्वप्न श्रृंगार
Vijay kannauje
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
दूर जाकर सिर्फ यादें दे गया।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिस्म तो बस एक जरिया है, प्यार दो रूहों की कहानी।
जिस्म तो बस एक जरिया है, प्यार दो रूहों की कहानी।
Manisha Manjari
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
साँवरिया तुम कब आओगे
साँवरिया तुम कब आओगे
Kavita Chouhan
बीते कल की रील
बीते कल की रील
Sandeep Pande
वो खुलेआम फूल लिए फिरते हैं
वो खुलेआम फूल लिए फिरते हैं
कवि दीपक बवेजा
*पीने वाले दिख रहे, पी मदिरा मदहोश (कुंडलिया)*
*पीने वाले दिख रहे, पी मदिरा मदहोश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
माँ शारदे
माँ शारदे
Bodhisatva kastooriya
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शीर्षक:
शीर्षक: "ओ माँ"
MSW Sunil SainiCENA
Loading...