Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 9, 2022 · 2 min read

कुंडलियां छंद (7)आया मौसम

कुंडलियाँ —
दोहा –रोला
आया मौसम प्यार का, बदले रूप हजार।
प्रेम भरी तकरार की, ठंडी चले फुहार ।।
ठंडी चले फुहार, याद है तेरी आती।
जलता कैसे दीप, तैल है और न बाती।
‘पाखी’ यूँ मत रूठ, विरह ने बहुत सताया ।
लेकर रूप हजार, प्यार का मौसम आया।।1

आगे आगे तुम चलो , ज्यों कलि के सँग पात ‌।
बातों बातों में कहीं ,बीत न जाए रात।।
बीत न जाए रात,बात प्यारी सी कर लो !
प्यार नहीं है खेल, दृगों में सपने भर लो ।।
ये देखो तुम आज,समय सरपट है भागे ।
पाखी गुजरी रात,चलो साथी तुम आगे ।।2

जाना मर्म कभी नहीं,होती क्या है जात।
बड़े बुजुर्गों ने सदा, बतलाई यह बात।।
बतलाई यह बात,तथ्य पर सभी छिपाते।
बात कहाँ आसान,नहीं खुल कर समझाते।
रहना पाखी दूर,यही मन अब है माना ।
जात-पात को भूल, हृदय ने यह है जाना ।।3

होगा गीता ज्ञान तब, बदलेगा संसार।
बिना ज्ञान के कुछ नहीं,करता अंगीकार।।
करता अंगीकार,यही अर्जुन को बोला।
दिया वही उपदेश, कृष्ण ने था जो तोला ।।
पाखी ले पहिचान ,सभी ने यह दुख भोगा ।
यह है गीता ज्ञान ,सीखना सबको होगा।।4

अंकुश लगता है तभी, बढ़ती जब उर आस।
हृदय निरंकुश हो गया,उरतल रावण वास।।
उरतल रावण वास,छोड़ दो सब वो माया
कहता गीता ग्रंथ, पाप ने सदा लुभाया ।।
पाखी लिख समझाय, न मन हो कभी निरंकुश ।
रखे महावत शीश ,सदा हाथी के अंकुश।।5

मानव मन कब मानता, माना है अवधूत।
शंकर औघड रूप धर, मलते अंग भभूत ।।
मलते अंग भभूत,दर्श भैरव का होता।
काया निखरे रूप,भस्म से तन जब धोता।।
पाखी बनी अजान,कहे रघु को क्यों राघव
है चिरजीवी कौन, सदा खुश रहता मानव।।6

रखना बहुत सँभाल के, बतलाती जो राज।
परिणति केवल बिछड़ना,यही बताना आज।।
यही बताना आज,धरा मैं रेगिस्तानी।
तुम सागर का नीर, रही मैं बूँद समानी ।।
बहे तटीय समीर,स्वाद क्यों तुमको चखना।
आतुरता अभिसार , हृदय में संयम रखना ।। 7

स्वरचित मौलिक सृजन
मनोरमा जैन पाखी
मेहगाँव ,जिला भिंड ,मध्य प्रदेश
@कापीराइट

2 Likes · 2 Comments · 105 Views
You may also like:
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
बंदर भैया
Buddha Prakash
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
साधु न भूखा जाय
श्री रमण
सूर्यज्वाळा
"अशांत" शेखर
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
तेरी सूरत
DESH RAJ
जीवन जीने की कला, पहले मानव सीख
Dr Archana Gupta
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
पिता
Saraswati Bajpai
परी
Alok Saxena
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख ********
Ravi Prakash
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेसहारा हुए हैं।
Taj Mohammad
की बात
AJAY PRASAD
Loading...