Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 25, 2022 · 1 min read

किस राह के हो अनुरागी

ईश्वर किसी एक धर्म , किसी एक पंथ या किसी एक मार्ग का गुलाम नहीं। अपने धर्म को सर्वश्रेष्ठ मानने से ज्यादा अप्रासंगिक मान्यता कोई और हो हीं नहीं सकती । परम तत्व को किसी एक धर्म या पंथ में बाँधने की कोशिश करने वालों को ये ज्ञात होना चाहिए कि ईश्वर इतना छोटा नहीं है कि उसे किसी स्थान , मार्ग , पंथ , प्रतिमा या किताब में बांधा जा सके। वास्तविकता तो ये है कि ईश्वर इतना विराट है कि कोई किसी भी राह चले सारे के सारे मार्ग उसी की दिशा में अग्रसित होते हैं।

किस राह के हो अनुरागी ,
देहासक्त हो या कि त्यागी?
जीवन का क्या हेतु परंतु ,
चित्त में इसका भान रहे ,
किंचित कोई परिणाम रहे,
किंचित कोई परिणाम रहे।

है प्रयास में अणुता तो क्या,
ना राह में ऋजुता तो क्या?
प्रभु की अभिलाषा में किंतु ,
ना हो लघुता ध्यान रहे ,
किंचित कोई परिणाम रहे,
किंचित कोई परिणाम रहे।

कितनी प्रज्ञा धूमिल हुई है ?
अंतस्यंज्ञा घूर्मिल हुई है ?
अंतर पथ अवरोध पड़ा ,
कैसा किंतु अनुमान रहे ,
किंचित कोई परिणाम रहे,
किंचित कोई परिणाम रहे।

बुद्धि शुद्धि या तय कर लो ,
वाक्शुद्धि चित्त लय कर लो ,
दिशा भ्रांत हो बैठो ना मन,
संशुद्धि संधान रहे ,
किंचित कोई परिणाम रहे,
किंचित कोई परिणाम रहे।

कर्मयोग कहीं राह सही है ,
भक्ति की कहीं चाह बड़ी है,
जिसकी जैसी रही प्रकृत्ति ,
वैसा हीं निदान रहे।
किंचित कोई परिणाम रहे,
किंचित कोई परिणाम रहे।

अजय अमिताभ सुमन:
सर्वाधिकार सुरक्षित

93 Views
You may also like:
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
खुशबू
DESH RAJ
उस दिन
Alok Saxena
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
जिन्दगी में होता करार है।
Taj Mohammad
जो... तुम मुझ संग प्रीत करों...
Dr. Alpa H. Amin
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
माँ का प्यार
Anamika Singh
धागा भाव-स्वरूप, प्रीति शुभ रक्षाबंधन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
करोना
AMRESH KUMAR VERMA
बेरोजगारी जवान के लिए।
Taj Mohammad
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
.✍️लौटा हि दूँगा...✍️
"अशांत" शेखर
खेत
Buddha Prakash
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️शरारत✍️
"अशांत" शेखर
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️किसान की आत्मकथा✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Santoshi devi
✍️क्या क्या पढ़ा है आपने ?✍️
"अशांत" शेखर
कभी अलविदा न कहेना....
Dr. Alpa H. Amin
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दर्द।
Taj Mohammad
Loading...