#9 Trending Author

किस्सा / सांग – # हरिश्चंद्र – फुटकड़ रागनी # रचनाकार – कवि शिरोमणि प. मांगेराम जी

किस्सा / सांग – # हरिश्चंद्र # रचनाकार – कवि शिरोमणि प. मांगेराम जी

किस्सा – हरिश्चंद्र (फुटकड़ रागनी)

28 दिन का रहणा होगा भंगी आले घर मैं
बोझ तलै मेरी नाड़ टूटगी आगी गर्ब कमर मैं || टेक ||

ठाल्ली झगड़े झोणे होगे, धर्म के मरवे बोणे होगे
सौ सौ घड़वे ढोणे होगे बाल रहया न सिर मैं || 1 ||

रहणा सहणा खास छुटग्या, अवधपुरी का वास छुटग्या
एक लड़का रोहताश छुटग्या बालक सी उम्र मैं || 2 ||

गहरी विपता ठाणी पड़गी, दर-दर ठोकर खाणी पड़गी
मदनावत राणी पड़गी न्युए ठाल्ली सोच फिक्र मैं || 3 ||

अवधपुरी का रहणा छुट्या, मांगेराम ड्राईवर लुट्या
ठोकर लागी घड़वा फूटया चढ़ग्या सूरज शिखर मैं || 4 ||

327 Views
You may also like:
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
उस दिन
Alok Saxena
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
हम भारत के लोग
Mahender Singh Hans
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
आध्यात्मिक गंगा स्नान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
मनोमंथन
Dr. Alpa H.
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
एक संकल्प
Aditya Prakash
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
श्रृंगार
Alok Saxena
"बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
अपराधी कौन
Manu Vashistha
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
Loading...