#10 Trending Author

किस्सा / सांग – # महात्मा बुद्ध # अनुक्रमांक – 36 # टेक – किया बखान महात्मा बुद्ध नै ऐसा कलयुग आवैगा, बिन मतलब ना कोए किसे कै पास बैठणा चाहवैगा।। टेक।।

किस्सा / सांग – # महात्मा बुद्ध # अनुक्रमांक – 36 #

वार्ता:-
सज्जनों! फिर राणी को महात्मा बुद्ध की बात समझ मे आ जाती है और भिक्षा दे देती है और फिर नगरवासी, राजा, मंत्री, रानी.महारानी आदि सभी कहते है कि आपने इतनी भक्ति करके इस दुनिया मे घूमकर एक साधू की सभी सिद्धिया प्राप्त करली लेकिन हमे तो भविष्य के बारे मे कुछ नही बताया और हमें भी तो कुछ बताओं तो महात्मा बुद्ध भविष्य के बारे मे क्या बताता है|

जवाब:- महात्मा बुद्ध का।

किया बखान महात्मा बुद्ध नै ऐसा कलयुग आवैगा,
बिन मतलब ना कोए किसे कै पास बैठणा चाहवैगा।। टेक।।

मां जाए भाई का भाई करै कदे इतबार नही,
बेटी लड़ै बाप के हक पै मां बेटे का प्यार नही,
भीड़ पड़ी मै साथ निभावै मित्र-रिश्तेदार नही,
ब्याही वर नै छोड़ चली जा जोट मिलै एकसार नहीं,
कोर्ट केश मुकदमा जीतै फेर दुसरी ब्याहवैगा।।

छत्री का छत्रापण घटज्या झुठ ब्राहमण बोलैंगे,
गऊ फिरैंगी सुन्नी घर-2 संत सुआदु डोलैंगे
पुन्न की गांठ पाप का नर्जा घाट व्यापारी तोलैंगे
शुद्र होंगे राजमंत्री बाकी धूल बटोलैंगे
जातपात का भेद रहै ना कौण किसतै शरमावैगा।।

पैसा पांह का भाई भा का सब मतलबी जहान होज्या,
मदिरा-मांस बिकै घर-2 मै मध्यम खानपान होज्या,
मात-पिता हो कर्महीण दुख देवा संतान होज्या,
आपा धापी बेईन्साफी दुनिया बेईमान होज्या,
कर्म का खेल भविष्यवाणी कोए करै उसा फल पावैगा।।

वोट का राज नोट की दुनिया घर का राज रहै कोन्या,
मात-पिता-गुरू-छोटे-बड़े की शर्म ल्हाज रहै कोन्या,
हर इंसान कर्या धन चाहवै कोए मोहताज रहै कोन्या,
राजेराम फूट घर-घर मै सुखी समाज रहै कोन्या,
हेरा-फेरी बेईमाना माणस नै लोभ सतावैगा।।

वार्ता:- सज्जनों! फिर इतना कहके महात्मा बुद्ध कपिलवस्तु से प्रस्थान कर जाता हैद्य इस प्रकार महात्मा बुद्व हरि का 23 वां अवतार हुआ जो एक कलयुग का अवतार था। इस प्रकार जो भी यह बुद्ववाणी बुद्व चरित्र धार्मिक इतिहास कोए सुणने वाला चतुर आदमी विचार करेगा। वह भी सत की खोज करके धर्म का मार्ग पर चलकर सिद्वि प्राप्त करेगा। यह सांग यही समाप्त होता है |

373 Views
You may also like:
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
Nature's beauty
Aditya Prakash
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H.
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
मिसाल (कविता)
Kanchan Khanna
इंसाफ हो गया है।
Taj Mohammad
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
बुध्द गीत
Buddha Prakash
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
चलों मदीने को जाते हैं।
Taj Mohammad
मोहब्बत का समन्दर।
Taj Mohammad
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam मन
मातृ रूप
श्री रमण
स्वर कोकिला लता
RAFI ARUN GAUTAM
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
Loading...