#9 Trending Author

किस्सा / सांग – # गोपीचंद – भरथरी # अनुक्रमांक – 24 # & टेक – कितका कौण फकीर बता बुझै चंद्रावल बाई, भूल गई तू किस तरिया गोपीचंद सै तेरा भाई।।

किस्सा / सांग – # गोपीचंद – भरथरी # अनुक्रमांक – 24 #

वार्ता:- सज्जनों! बांदी की बात सुनके चंद्रवाल बाई आती है गोपीचंद भगमा बाणे मै चंद्रावल को भी नहीं पहचान मे आया तभी चंद्रावल बाई गोपीचंद से कैसे सवाल जवाब करती है और गोपीचंद का कैसे पता पूछती है और कैसे गोपीचंद बताता है।।

जवाब :- चंद्रावल बाई का गोपीचंद से।

कितका कौण फकीर बता बुझै चंद्रावल बाई,
भूल गई तू किस तरिया गोपीचंद सै तेरा भाई || टेक ||

गोपीचंद के नाना नानी सै कौण बता मेरे स्याहमी,
नानी पानमदे नाना गंर्धफसैन होया सै नामी,
गोपीचंद कै और बतादे कै मामा कै मामी,
मामा विक्रमजीत भरथरी बहाण मैनावती जाणी,
मामी का भी नाम बतादे उनकै ब्याही आई,
मामी पिंगला रतनकौर परी खांडेराव बताई।।

गोपीचंद के दादा दादी कौण होए फरमादे,
दादा पृथ्यू सिंह था म्हारी दादी सै कमलादे
कौण माता कौण पिता मेरे थे उनका नाम बतादे,
पिता पदमसैन मां मैनावती होए गोपीचंद सहजादे,
गोपीचंद नै और बातदे कितणी रानी ब्याही,
गोपीचंद कै सोला राणी 12 कन्या जाई।।

और बता के सन् तारीख थी वार तिथि मेरे ब्याह की,
सन् दसवां नौ चार वार बृहस्पति पंचमी माह की,
कितै आई बरात सवारी थी मेरे ब्याह मै क्या की,
टम टम बग्गी अरथ पालकी डोली थी तेरे ना की,
माचगी धूम कुशल घर घर मैं होए किसतै ब्याह रै सगाई,
ढाक बंगाला के उग्रसैन राजा नै तू परणाई।।

राज कुटुम्ब घर बार तज्या तनै किसनै जोग दिवाया,
जोग दिवाया माता नै मेरी अमर करादी काया,
राजेराम लुहारी आले कौण गुरू तनै पाया,
पाड़े कान मेरे गोरख नै जिसकी अदभूत माया,
गोपीचंद कै पैर पदम और माथै मणी बताई,
राख हटाई माथे की पैर पदम दर्शायी।।

1429 Views
You may also like:
#क्या_पता_मैं_शून्य_न_हो_जाऊं
D.k Math
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
महफिल में छा गई।
Taj Mohammad
दर्द।
Taj Mohammad
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
Crumbling Wall
Manisha Manjari
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पापा
सेजल गोस्वामी
अंदाज़।
Taj Mohammad
मारुति वंदन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
राम
Saraswati Bajpai
गुरु तुम क्या हो यार !
The jaswant Lakhara
पिता
Madhu Sethi
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H.
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
Loading...