#10 Trending Author

किस्सा / सांग – # कृष्ण जन्म # अनुक्रमांक – 13 – बहरे तबील # टेक – सुणी आकाशवाणी, मेरी मौत बखाणी, ये सुणकै कहाणी, मेरा टूट गया दम, हे देवकी डरूं, तुझे मार मरूं, पाछै बात करूं, तनै पहले खतम। ।टेक।

किस्सा / सांग – # कृष्ण जन्म # अनुक्रमांक – 13 – बहरे तबील #

वार्ता:-
सज्जनों | कंस जब आकाशवाणी की बात सुनता है की तेरे को मारने वाला तेरी बहन देवकी के गर्भ से ही जन्म लेगा तो फिर कंस सोचता है कि मै क्यों न देवकी को ही मार दूँ – न रहेगा बांस और न बजेगी बांसुरी | इसलिए वह अपनी बहन देवकी को मारने लगता है लेकिन फिर देवकी अपने भाई कंस से पुकार करती है लेकिन फिर देवकी की पूकार को नकारते हुए कंस कहता है कि आकाशवाणी की बात सुनके मेरे को भय सताने लगा है और मेरा अन्दर ही अन्दर दम घुटने लगा है | अब कंस मौत के भय से डरते हुए देवकी को क्या कहता है |

सुणी आकाशवाणी, मेरी मौत बखाणी, ये सुणकै कहाणी, मेरा टूट गया दम,
हे देवकी डरूं, तुझे मार मरूं, पाछै बात करूं, तनै पहले खतम। ।टेक।

तुझे दूंगा जता, तेरी ये है खता, मुझे चलग्या पता, दुश्मन लेगा जन्म,
ना तै बहाण नै भाई, कोए मारैगा नाही, तेरी शादी रचाई, ये किया है जुल्म।।

मेरा कांपै हिया, जागा मुश्किल जिया, सुणकै भभक लिया, न्यूं होग्या भस्म,
मै डरता नहीं, जिंदा फिरता नहीं, कदे भरता नहीे, ऐसा होग्या जख्म।।

तेरे केश पकड़कै, बोल्या कंस अकड़कै, काटू शीश जकड़कै, निकालूंगा दम,
जब आवै सबर, पटज्या सबको खबर, तूझे मारूं जबर, आज बणकै नै जम।।

ये सवाल मेरा, दीखै काल मेरा, जन्मै लाल तेरा, ही मेरा सितम,
राजेराम नै कही, सबके मन की लही, वो रखता बही, है सबकी लिखतम।।

1 Like · 1 Comment · 296 Views
You may also like:
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां ने।
Taj Mohammad
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन इनका भी है
Anamika Singh
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रेम
Rashmi Sanjay
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
"शौर्य"
Lohit Tamta
प्रयास
Dr.sima
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
किसान
Shriyansh Gupta
Loading...