Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

किस्सा फिर वही पुराना………………

नया नया था अपना याराना,
हुआ बहुत पुराना सा लगता है
कल तक जताते थे वो अपनापन
आज बीता जमाना सा लगता है
इतनी जल्दी दिल भर जाएंगे
सोचा न था ………………….!
मगर क्या कहे……………….!
ये किस्सा फिर वही पुराना लगता है !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ __________@

320 Views
You may also like:
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पिता
Keshi Gupta
मन
शेख़ जाफ़र खान
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Security Guard
Buddha Prakash
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
इश्क कोई बुरी बात नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...