Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 3, 2017 · 1 min read

किस्मत

हाथों की लकीरों की चित्रकारी में साथियों,
कुछ डालो मेहनत के रंग।
फिर जो अक्स उभरेगा भविष्य का
उसमें निखर कर आएगा,
तुम्हारी किस्मत का असली रूप रंग।
किस्मत की सुई में मेहनत का धागा।
यूं लगे जैसे सोने पे सुहागा।
किस्मत के भरोसे कभी मत सोना
न मिला कुछ कभी तो मत रोना।
कर्म सर्वोपरि है जीवन में
किस्मत को भी वह कभी-कभी
भर लेता अपने दामन में।

–रंजना माथुर दिनांक 28/07/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना )
copyright ©

380 Views
You may also like:
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
पिता
Aruna Dogra Sharma
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
प्यार
Anamika Singh
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
पापा
सेजल गोस्वामी
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
अरदास
Buddha Prakash
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...