Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Aug 2022 · 1 min read

किसी को भूल कर

ख़ुशनसीबी, जो अपने देश पर
कुर्बान होता है।
किसी को भूल कर जीना कहां
आसान होता है।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
5 Likes · 103 Views
You may also like:
नेता बनि के आवे मच्छर
आकाश महेशपुरी
लक्ष्मी बाई [एक अमर कहानी]
Dheerendra Panchal
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
ना होता कुलनाश, चले धर्म-कर्म से जो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जब जब परखा
shabina. Naaz
तेरी रहबरी जहां में अच्छी लगे।
Taj Mohammad
नारी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
" लिखने की कला "
DrLakshman Jha Parimal
कैसे कहूँ....?
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️दहशत में है मजारे✍️
'अशांत' शेखर
💐💐तुम्हें देखा तो बहुत सुकून मिला💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहां है, शिक्षक का वह सम्मान जिसका वो हकदार है।
Dushyant Kumar
माटी - गीत
Shiva Awasthi
भोजपुरी भाषा
Er.Navaneet R Shandily
रूबरू होकर जमाने से .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
*उजाले से लड़ा‌ई में अॅंधेरा हार जाता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
■ बदलती कहावत.....
*Author प्रणय प्रभात*
काश ! तेरी निगाह मेरे से मिल जाती
Ram Krishan Rastogi
बढ़ती आबादी
AMRESH KUMAR VERMA
#मैं_पथिक_हूँ_गीत_का_अरु, #गीत_ही_अंतिम_सहारा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सबके मन मे राम हो
Kavita Chouhan
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
भाभी जी आ जाएगा
Ashwani Kumar Jaiswal
मूर्दों का देश
Shekhar Chandra Mitra
राखी त्यौहार बंधन का - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
संत एकनाथ महाराज
Pravesh Shinde
जमी हुई धूल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
लौट आते तो
Dr fauzia Naseem shad
मौत के सामने सब बेबस है
Anamika Singh
क्या हार जीत समझूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...