Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#16 Trending Author
Jun 2, 2022 · 1 min read

किसी को गिराया नहीं मैनें।

माना कि औरों के मुकाबले कुछ ज्यादा पाया नहीं मैंने।
पर खुद गिरता सम्भलता रहा किसी को गिराया नही मैनें।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

129 Views
You may also like:
ऐसा क्या है तुझमें
gurudeenverma198
जीवन और दर्द
Anamika Singh
"तुम हक़ीक़त हो ख़्वाब हो या लिखी हुई कोई ख़ुबसूरत...
Lohit Tamta
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
#मेरे मन
आर.एस. 'प्रीतम'
ना कर नजरअंदाज
Seema Tuhaina
✍️✍️नासूर दर्द✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️हार और जित✍️
'अशांत' शेखर
बदनाम होकर।
Taj Mohammad
सावन
Shiva Awasthi
✍️आओ हम सोचे✍️
'अशांत' शेखर
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
चित्कार
Dr Meenu Poonia
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
पिता
Vijaykumar Gundal
ये जी चाहता है।
Taj Mohammad
✍️जिंदगी का फ़लसफ़ा✍️
'अशांत' शेखर
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
मुजीब: नायक और खलनायक ?
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
अपनी मर्ज़ी के मुताबिक सब हैं
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
पैसा
Arjun Chauhan
वही ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr.Alpa Amin
Loading...