Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-355💐

किसी के बारे में अच्छा लिखें कुछ नहीं जाता,
किसी को चन्द खुशियाँ भी दें, कुछ नहीं जाता,
सबको मरना है यहाँ कुछ भी साथ नहीं जाएगा,
इक फ़क़त तबस्सुम ही दे दें उन्हें,कुछ नहीं जाता।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
92 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
अस्तित्व है उसका
अस्तित्व है उसका
Dr fauzia Naseem shad
***
*** " नाविक ले पतवार....! " ***
VEDANTA PATEL
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
प्रेम प्रतीक्षा करता है..
प्रेम प्रतीक्षा करता है..
Rashmi Sanjay
रात है यह काली
रात है यह काली
जगदीश लववंशी
*मिला दूसरा संडे यदि तो, माँ ने वही मनाया【हिंदी गजल/गीतिका 】*
*मिला दूसरा संडे यदि तो, माँ ने वही मनाया【हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
"वो हसीन खूबसूरत आँखें"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन बूटी कौन सी
जीवन बूटी कौन सी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नया युग
नया युग
Anil chobisa
हम है वतन के।
हम है वतन के।
Taj Mohammad
2303.पूर्णिका
2303.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🎂जन्मदिन की अनंत शुभकामनाये🎂
🎂जन्मदिन की अनंत शुभकामनाये🎂
Dr Manju Saini
Bachpan , ek umar nahi hai,
Bachpan , ek umar nahi hai,
Sakshi Tripathi
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
💐अज्ञात के प्रति-35💐
💐अज्ञात के प्रति-35💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ईद मुबारक
ईद मुबारक
Satish Srijan
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
माँ का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है ?
Tarun Prasad
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
👸कोई हंस रहा, तो कोई रो रहा है💏
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
काश ये नींद भी तेरी याद के जैसी होती ।
Amit Kumar
कश्मीरी पंडित
कश्मीरी पंडित
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
एक नेता
एक नेता
पंकज कुमार कर्ण
■ मेरे अपने संस्मरण
■ मेरे अपने संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
पढ़ना सीखो, बेटी
पढ़ना सीखो, बेटी
Shekhar Chandra Mitra
मेरी इबादत
मेरी इबादत
umesh mehra
तुम पंख बन कर लग जाओ
तुम पंख बन कर लग जाओ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कितने इश्क़❤️🇮🇳 लिख गये, कितने इश्क़ सिखा गये,
कितने इश्क़❤️🇮🇳 लिख गये, कितने इश्क़ सिखा गये,
Shakil Alam
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
Loading...