Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

किसने गोली बारी की

 किसने गोली बारी की

महाकाल की धरती पर ही, किसने गोली बारी की।
शिवभक्तों को मार गिराकर, भारत से गद्दारी की।।

पकड़ टेटुवा फोड़ो सर को, जिंदा उनको दफन करो।
तड़पा तड़पा करके मारो, दफन बिना ही कफ़न करो।।

जितना दर्द दिया जा सकता, उतना दर्द ईजाद करो।
नर्क मिले मरने पर उनको, बम बम से फरियाद करो।।

हुए सपोले कितने पैदा, लहू बहाने घाटी में।
चुन चुनकर पहचानों उनको, जिंदा गाड़ो माटी में।।

जिन्दे आतंकी को पकड़ो, जिन्दे की बोटी काटो।
बोटी की रोटी बनवाकर, कुत्ते को रोटी बाटो।।

जीभ खींच डालो उनकी जो, जहर उगलते बोली को।।
ठांय ठांय दुश्मन के सीने, में मारो तुम गोली को।

कैसे धोएंगे परिजन के, दिल पर अंकित दागों को।
जहर उगलते हैं जो कुचलो, फन फैलाये नागों को।।

जैसे कोई धर्म नहीं जो, होता है हथियारों का।
वैसा कोई धर्म नहीं है, दुनिया में गद्दारों का।।

दुनिया से आतंक मिटा दो, जीना गर सम्मान से।
छोड़ो नफरत वाली बोली, बोलो पाकिस्तान से।।

-साहेबलाल दशरिये ‘सरल’

191 Views
You may also like:
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अनमोल राजू
Anamika Singh
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
यादें
kausikigupta315
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
धन्य है पिता
Anil Kumar
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
Loading...