Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#30 Trending Author

किवाड़ या भय

ये केवल
किवाड़ नहीं हैं ।
ये जब बोलते हैं ,
तो सहम
जाती है माँ ।
ये जब हिलते हैं
तो ठिठक-से
जाते हैं पिता ।
इनका बंद रहना
अखरता है
हर किसी को ,
मित्रों को व
रिश्तेद़ारों को ।
ये हिलें या
हिलाए जाएँ ।
ये खुलें या
खोले जाएँ ।
तो एक
अनचाहा -सा
अनजाना -सा
भय ,आकर
सिमट जाता है
शाँकल और कुंदे
के दरम़ियान ।
ये जब
खटकते हैं ,
या कोई
खटकाता है इन्हें ।
तो कच्ची-नींद से
उठ जाती है
मेरी जवान बिटिया
और
फूँकने लगती है चूल्हा ।
अतिथि के
आगमन की
सूचना समझकर ।
बिटिया नासमझ है,
उसे नहीं मालूम
कि-कोई
नहीं आएगा ।
यदि आएगा तो
केवल साहूकार ,
जो व्याज बसूलकर
ले जाएगा ,
मूलधन की अमानत
हमें सौंपकर ।
शायद !
इसीलिए कसकर
चमीट लिया है,
इन किवाड़ों ने
खुद ही अपने-आप को ।

3 Likes · 18 Comments · 1184 Views
You may also like:
पिता
Vijaykumar Gundal
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
बस तुम को चाहते हैं।
Taj Mohammad
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
ग़ज़ल
kamal purohit
Love Heart
Buddha Prakash
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
महाभारत की नींव
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
✍️वो मील का पत्थर....!
"अशांत" शेखर
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
✍️वास्तविकता✍️
"अशांत" शेखर
नामालूम था नादान को।
Taj Mohammad
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
वक्त ए नमाज़ है।
Taj Mohammad
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
कलम बन जाऊंगा।
Taj Mohammad
Loading...