Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 10, 2017 · 1 min read

किताब

सोचा एक किताब लिखूं।
उसमें तेरा जिक्र लिखूं।
सुबह से शाम हुई।
सोचते हुए रात भी बीती ।
क्या लिखूं समझ न आया।
तू तस्वीर है या मेरा साया।
सांसों में बसा लिखूं।
या धड़कनों में समाया।
कश्मकश थी अजीब।
प्रतीक्षा की घड़ी भी करीब।
धड़कनें धड़क रही थी।
नाम से तेरे।
सांसें भी चल रही थी।
आस में बस तेरी।
रोमछिद्रों में तेरा वास।
तुझ बिन न लूँ मैं स्वास।
हार गयी,थक कर चूर हुई।
आदि मिला न अंत तेरा।
तन-मन की बात नहीं।
तू तो बसा है आत्मा में।
मिश्री की तरह।
समाया है लहू में।
सुर्ख रंग की तरह।
कैसे अलग तू और मैं।
मेरे प्रीतम अब तू ही बता।
जीवन की अनन्त गहराइयों में।
तेरा ही अक्स, तेरा ही साया।
अब कैसे मैं तेरा जिक्र करूँ।
कैसे मैं कोई ग्रन्थ लिखूं।
सोचा फिर एक किताब लिखूं।।

आरती लोहनी

1 Like · 308 Views
You may also like:
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Saraswati Bajpai
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
गीत
शेख़ जाफ़र खान
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बहुमत
मनोज कर्ण
पंचशील गीत
Buddha Prakash
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
पिता
Manisha Manjari
अनमोल राजू
Anamika Singh
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
Loading...