Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-340💐

कितने सुकूँ में हूँ मैं बताओ ज़रा,
अपना पर्दा हटाओ बताओ ज़रा,
क्या मेरे इश्क़ की कीमत तय कर दी,
तुम मेरे दिल हो, बताओ ज़रा।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
40 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
न दिखावा खातिर
न दिखावा खातिर
Satish Srijan
".... कौन है "
Aarti sirsat
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
साँसों का संग्राम है, उसमें लाखों रंग।
सूर्यकांत द्विवेदी
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
"ऊँची ऊँची परवाज़ - Flying High"
Sidhartha Mishra
*गृहस्थी का मजा तब है, कि जब तकरार हो थोड़ी【मुक्तक 】*
*गृहस्थी का मजा तब है, कि जब तकरार हो थोड़ी【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
हिचकियां
हिचकियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऑनलाइन पढ़ाई
ऑनलाइन पढ़ाई
Rajni kapoor
अपना जीवन पराया जीवन
अपना जीवन पराया जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुख वो नहीं होता,
दुख वो नहीं होता,
Vishal babu (vishu)
💐प्रेम कौतुक-361💐
💐प्रेम कौतुक-361💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता की व्यथा
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
धुँधलाती इक साँझ को, उड़ा परिन्दा ,हाय !
Pakhi Jain
यह हक़ीक़त है
यह हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
चांद कहां रहते हो तुम
चांद कहां रहते हो तुम
Surinder blackpen
नफ़रत की आग
नफ़रत की आग
Shekhar Chandra Mitra
बिस्तर से आशिकी
बिस्तर से आशिकी
Buddha Prakash
पिता
पिता
Mukesh Jeevanand
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
अब आये हो तो वो बारिश भी साथ लाना, जी भरकर रो कर, जिससे है हमें उबर जाना।
अब आये हो तो वो बारिश भी साथ लाना, जी भरकर रो कर, जिससे है हमें उबर जाना।
Manisha Manjari
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
■ आज ऐतिहासिक दिन
■ आज ऐतिहासिक दिन
*Author प्रणय प्रभात*
डॉअरुण कुमार शास्त्री
डॉअरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
इन फूलों से सीख ले मुस्कुराना
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
किरदार अगर रौशन है तो
किरदार अगर रौशन है तो
shabina. Naaz
कहा तुमने कभी देखो प्रेम  तुमसे ही है जाना
कहा तुमने कभी देखो प्रेम तुमसे ही है जाना
Ranjana Verma
चंद एहसासात
चंद एहसासात
Shyam Sundar Subramanian
मां
मां
Manu Vashistha
Loading...