Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2022 · 1 min read

कितनी सहमी सी

चन्द ख़्वाहिश की आपाधापी में ।
कितनी सहमी सी ज़िन्दगानी है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
7 Likes · 1 Comment · 138 Views
You may also like:
*पायल बिछुए ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
कोरोना काल
AADYA PRODUCTION
तन्मय
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरी आंखों का इंतिज़ार रहा
Dr fauzia Naseem shad
★ हिन्दू हूं मैं हिन्दी से ही मेरी पहचान है।...
★ IPS KAMAL THAKUR ★
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरी (अपनी) आवाज़
Shivraj Anand
बद्दुआ
Harshvardhan "आवारा"
आईना देखना पहले
gurudeenverma198
तो क्या हुआ
Faza Saaz
ज़िन्दा रहना है तो जीवन के लिए लड़
Shivkumar Bilagrami
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
डी. के. निवातिया
बड़ी बेवफ़ा थी शाम .......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
तू ही पहली।
Taj Mohammad
✍️✍️जरी ही...!✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दिल में मोहब्बत हीर से हीरे जैसी /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
😡 व्यंग्य / प्रसंगवश :--
*Author प्रणय प्रभात*
गुंडागर्दी
Shekhar Chandra Mitra
हे! राम
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मुल्क़ पड़ोसी चीन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महाराष्ट्र की स्थिती
बिमल
संत कबीरदास✨
Pravesh Shinde
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
'भारत माता'
Godambari Negi
धरती माँ
जगदीश शर्मा सहज
बिहार एवं बिहारी (मेलोडी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पूर्णाहुति
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
Gouri tiwari
रहे टनाटन गात
Satish Srijan
Loading...