Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कितना पावन पर्व है करवा चौथ

कितना पावन पर्व है करवा चौथ हम महिलाओं के लिए,
इस दिन के आगे और खुशियाँ हैं कम महिलाओं के लिए।

कई दिन पहले से इस दिन की तैयारियाँ शुरू हो जाती हैं,
कैसे कैसे होंगी तैयार, सभी सुनहरे सपनों में खो जाती हैं।

कोई लाती है नयी साड़ी तो कोई सूट नया सिलवाती है,
दो दिन पहले ही जा कोई फेशियल अपना करवाती है।

मैचिंग की चूड़ियाँ लाती, लाती सौंदर्य सामग्री खरीदकर,
मेहँदी में छिपाकर लिख नाम कहती हैं दिखाओ ढूंढकर।

दुल्हन सी सजकर सच्चे मन से व्रत की कथा को सुनती,
दिनभर अपने मन ही मन में पिया मिलन के सपने बुनती।

रात में साजन टहलने लगते छत पर चाँद के इंतजार में,
देती अर्घ्य चाँद को फिर छूती पैर पति के भरकर प्यार में।

पति खिलाकर मिठाई अपने हाथों से व्रत खुलवाता है,
जिनके पति नहीं पास में उनका मन मायूस हो जाता है।

भाग्यशाली है सुलक्षणा साजन रहते पास में इस दिन,
भगवान करें रहे ना अकेली सुहागन अपने साजन बिन।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 170 Views
You may also like:
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
✍️अपना ही सवाल✍️
"अशांत" शेखर
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
इंतजार
Anamika Singh
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
Little sister
Buddha Prakash
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
अभी बाकी है
Lamhe zindagi ke by Pooja bharadawaj
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
पापा की परी...
Sapna K S
सदगुण ईश्वरीय श्रंगार हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
✍️इरादे हो तूफाँ के✍️
"अशांत" शेखर
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
शबनम।
Taj Mohammad
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
चुप रहने में।
Taj Mohammad
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
विश्व हास्य दिवस
Dr Archana Gupta
Loading...