Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

काहे को सताये मोहे ……

काहे को सताये मोहे ……

कौन गाँव से आयो रे तू कौन तेरा देश रे ।
काहे को सताये मोहे तू बदल बदल भेष रे !!

जब जब जाऊं मै जमना के तीर
छलकत जाये मेरी गगरी से नीर
डर डर कर मोरे कदम उठत है
रैन दिवस मनवा में होये क्लेश रे ।।

कौन गाँव से आयो रे तू कौन तेरा देश रे ।
काहे को सताये मोहे तू बदल बदल भेष रे !!

जब जब भोर भये जाऊं पनघट पे
नित मोरी राह निहारे बैठ वो वट पे
शर्म के मारे मोहे आवत बड़ी लाज
कोई बताये कैसे रखूं दामन पाक शेष रे ।।

कौन गाँव से आयो रे तू कौन तेरा देश रे ।
काहे को सताये मोहे तू बदल बदल भेष रे !!

रोज – रोज़ मुझको जो ऐसे वो घेरे
वक़्त बे वक्त लगावे अंगना के फेरे
सखी सहेली मोहे उस नाम से छेड़े
बदनामी से बचने का दे दो मुझे उपदेश रे ।।

कौन गाँव से आयो रे तू कौन तेरा देश रे ।
काहे को सताये मोहे तू बदल बदल भेष रे !!
!
!
!
(डी. के. निवातियाँ )

4 Comments · 134 Views
You may also like:
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
हुस्न में आफरीन लगती हो
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
फ़नकार समझते हैं Ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H. Amin
Listen carefully.
Taj Mohammad
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
वसंत
AMRESH KUMAR VERMA
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण
हिम्मत न हारों
Anamika Singh
बचालों यारों.... पर्यावरण..
Dr. Alpa H. Amin
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️✍️नींद✍️✍️
"अशांत" शेखर
Loading...