Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 31, 2021 · 1 min read

काश, मैं इक छोटी सी….

काश, मैं इक छोटी सी….
___________________

काश,मैं इक छोटी सी कविता लिख पाता !
पढ़कर पाठक गण जिससे प्रसन्न हो जाते !
दु:ख , क्लेश सभी का कुछ तो बाॅंट पाता !
कुछ पल साथियों का हमदर्द तो बन पाता !!

काश,सबके मन की भावनाऍं जान पाता !
और सबकी अपेक्षाओं पे खड़े उतर पाता !
कुछ ख़ास तथ्यों से लबालब जो कर देता !
जिज्ञासाऍं सबकी पल में ही प्रबल कर देता !!

काश, मैं इक छोटी सी……

काश, अपने ख्यालों में इतना डूब जाता !
जो , खुद की भी कोई परवाह ना करता !
जिसमें गोते लगाकर सारे मोती ले आता !
जिसे शब्दों के साथ गूॅंथकर पहना जाता !!
और सबके ही मन-मस्तिष्क पे छा जाता !!

काश, किसी पर्यटन में सखा संग हो लेता !
मौज – मस्ती करता , बेवजह ही इठलाता !
झूमता, गाता, कुछ ऐसी कहानियाॅं बनाता !
शब्दों में सजाकर कविता की विधा दे देता !!

काश, मैं इक छोटी सी……

ये ज़िंदगी तो कुछ पल की ही है झूम लें ज़रा!
ग़मों को भुलाकर , ख़ुशियों को चूम लें ज़रा !
आसमाॅं में उड़ने का सपना हम बुन लें ज़रा !
नूपुर की मधुर झनकार को हम सुन लें ज़रा !!

चन्द लम्हे जीवन में बचे हैं,इन लम्हों को जी लें !
ख़्वाबों की गहराइयों में जाके पलकें झपक लें !
दोस्त,दोस्त के काम आ जाए,ऐसी ही सबक लें !
शब्द,शब्द पे मंथन करके कविता इक लिख लें !!

काश, मैं इक छोटी सी……

__ स्वरचित एवं मौलिक ।

© अजित कुमार कर्ण ।
__ किशनगंज ( बिहार )

7 Likes · 621 Views
You may also like:
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
एक नारी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
ग़ज़ल
kamal purohit
घर-घर में हो बाँसुरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ईश्वरीय फरिश्ता पिता
AMRESH KUMAR VERMA
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
आजादी का जश्न
DESH RAJ
चाह इंसानों की
AMRESH KUMAR VERMA
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
खुश रहना
dks.lhp
✍️लापता हूं खुद से✍️
'अशांत' शेखर
तू ही पहली।
Taj Mohammad
कर्म का मर्म
Pooja Singh
नवाब तो छा गया ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
बिहार में खेला हो गया
Ram Krishan Rastogi
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
मिलना , क्यों जरूरी है ?
Rakesh Bahanwal
✍️हौंसला जवाँ उठा है✍️
'अशांत' शेखर
'शशिधर'(डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
हम सब एक है।
Anamika Singh
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
Loading...