Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2022 · 1 min read

काश मेरा बचपन फिर आता

काश मेरा बचपन फिर आता….
दिल खुशियों से भर जाता।
बचपन की जब होती है बातें….
अचानक ही यूँ याद आ जाते हैं,
वो दिन, वो शरारतों भरी रातें।
उस वक्त कितना था, लोगों के लिए अपनापन….
कितना प्यारा था, मेरा वो बचपन।
वो स्कूल में टीचर को करंट पेन लगाना….
फिर उनके सामने, बिल्कुल मासूम बन जाना।
बचपन में, ना कुछ पाने की ,कोई ख्वाहिश होती थी….
और, ना कुछ खोने का,कोई गम होता था।
बस जीते चले जाते थे, इन अंतरंग पलों की जिंदगी को….
दशहरा पर पापा हमारे लिए समोसा,जलेबी लाते….
उन्हें हम भाई-बहन मिल बांट कर खूब खुशी से खाते।
काश मेरा बचपन फिर आता….
दिल खुशियों से भर जाता।
बड़े होते ही, सब कुछ इस कदर बदल गया….
वक्त का पता ही नहीं चला, बस वो बचपन याद बन गया।
और अब पता चला,असल जिंदगी तो वो थी….
जब हमको मालूम ही नहीं था,कि ये जिंदगी क्या है।
वो रात में, खुले आसमान में सोना….
और मां से कहानी सुनने के लिए रोना।
वो बेफिक्री में जीना….
खुलकर हंसना, खुल कर रोना।
बारिश में भीग- भीग कर नहाना….
वो कागज की कश्ती पानी में बहाना।
फिर अचानक, बीमार पड़ने पर पापा से खूब डांट खाना….
और बीमारी का बहाना बनाकर,स्कूल से छुट्टी पाना।
काश मेरा बचपन फिर आता….
दिल खुशियों से भर जाता।
_ ज्योति खारी

15 Likes · 26 Comments · 425 Views
You may also like:
पैसों की भूख
AMRESH KUMAR VERMA
गुरु
Mamta Rani
*दीपक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
“ जन्माष्टमी की एक झलक आर्मी में ” (संस्मरण)
DrLakshman Jha Parimal
आघात
Dr. Sunita Singh
मानवता के डगर पर
Shivraj Anand
तेरी आरज़ू, तेरी वफ़ा
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
शिल्प कुशल रांगेय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आत्मनिर्णय का अधिकार
Shekhar Chandra Mitra
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️खुशी✍️
'अशांत' शेखर
"अल्मोड़ा शहर"
Lohit Tamta
*संविधान गीत*
कवि लोकेन्द्र ज़हर
आज हिंदी रो रही है!
Anamika Singh
तेरे हक़ में दुआ करी हमने
Dr fauzia Naseem shad
*"परशुराम के वंशज हैं"*
Deepak Kumar Tyagi
आई सावन की बहार,खुल कर मिला करो
Ram Krishan Rastogi
मिस्टर एम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Break-up
Aashutosh Rajpoot
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
✴️🌸सहस्त्रं तु पितृन्माता गौरवेणातिरिच्यते🌸✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हुनर बाज
Seema 'Tu hai na'
बाबा भीमराव अंबेडकर को शत शत नमन
gurudeenverma198
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हमारा दिल।
Taj Mohammad
मेरे पापा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Time never returns
Buddha Prakash
Loading...