Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2022 · 1 min read

काश मेरा बचपन फिर आता

काश मेरा बचपन फिर आता….
दिल खुशियों से भर जाता।
बचपन की जब होती है बातें….
अचानक ही यूँ याद आ जाते हैं,
वो दिन, वो शरारतों भरी रातें।
उस वक्त कितना था, लोगों के लिए अपनापन….
कितना प्यारा था, मेरा वो बचपन।
वो स्कूल में टीचर को करंट पेन लगाना….
फिर उनके सामने, बिल्कुल मासूम बन जाना।
बचपन में, ना कुछ पाने की ,कोई ख्वाहिश होती थी….
और, ना कुछ खोने का,कोई गम होता था।
बस जीते चले जाते थे, इन अंतरंग पलों की जिंदगी को….
दशहरा पर पापा हमारे लिए समोसा,जलेबी लाते….
उन्हें हम भाई-बहन मिल बांट कर खूब खुशी से खाते।
काश मेरा बचपन फिर आता….
दिल खुशियों से भर जाता।
बड़े होते ही, सब कुछ इस कदर बदल गया….
वक्त का पता ही नहीं चला, बस वो बचपन याद बन गया।
और अब पता चला,असल जिंदगी तो वो थी….
जब हमको मालूम ही नहीं था,कि ये जिंदगी क्या है।
वो रात में, खुले आसमान में सोना….
और मां से कहानी सुनने के लिए रोना।
वो बेफिक्री में जीना….
खुलकर हंसना, खुल कर रोना।
बारिश में भीग- भीग कर नहाना….
वो कागज की कश्ती पानी में बहाना।
फिर अचानक, बीमार पड़ने पर पापा से खूब डांट खाना….
और बीमारी का बहाना बनाकर,स्कूल से छुट्टी पाना।
काश मेरा बचपन फिर आता….
दिल खुशियों से भर जाता।
_ ज्योति खारी

14 Likes · 26 Comments · 274 Views
You may also like:
सरहद पर रहने वाले जवान के पत्नी का पत्र
Anamika Singh
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
माँ की याद
Meenakshi Nagar
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
✍️✍️चुभन✍️✍️
'अशांत' शेखर
सरस्वती कविता
Ankit Halke jha Official's
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
✍️क्या क्या पढ़ा है आपने ?✍️
'अशांत' शेखर
*डॉक्टर भूपति शर्मा जोशी की कुंडलियाँ : एक अध्ययन*
Ravi Prakash
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
पक्षियों से कुछ सीखें
Vikas Sharma'Shivaaya'
में हूं हिन्दुस्तान
Irshad Aatif
समय भी कुछ तो कहता है
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
"लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
अगर तुम सावन हो
bhandari lokesh
मेरे भईया हमेशा सलामत रहें
Dr fauzia Naseem shad
💐मनुष्यशरीरस्य शक्ति: सुष्ठु नियोजनं💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तपिश।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
इंसानो की यह कैसी तरक्की
Anamika Singh
माँ
अश्क चिरैयाकोटी
बेशक
shabina. Naaz
किया है तुम्हें कितना याद ?
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
साथ समय के चलना सीखो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अब मैं बहुत खुश हूँ
gurudeenverma198
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...