Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
Apr 29, 2022 · 2 min read

काश बचपन लौट आता

काश जिन्दगी तु मेरी
एक बात मान जाती ।
एक बार फिर मेरा बचपन
मुझको तुम लौटा देती ।

जिंन्दगी की कशमकश से,
मैं बहुत दूर निकल जाती।
अपनी सारी चिन्ता फ्रिक
को मैं भुल जाती।

फिर से इस जीवन को मैं
सकून के साथ जी पाती।
फिर मै अपनी खामोशी वाली
यह आवाज को भूल जाती।
फिर से बचपन वाली हुड़दंग मे
मैं भी शामिल हो जाती।

फिर मैं भी मिट्टी में सन्नकर
उसकी खुशबू को पाती।
उसी मिट्टी में सन्नकर जब
मैं अपने घर पर आती।
माँ की प्यारी डाँट मुझे फिर ,
से सुनने को मिल जाती।

फिर से अपने बचपन वाली
खुशियों को मैं समेट पाती।
एकबार गुडडे-गुड़ियाँ का
मैं ब्याह फिर से रचाती।
फिर अपने सारे दोस्तो,
को उसमे मै बुलाती।

उनके साथ बैठकर फिर
मैं बाते खुब बनाती।
अभी वाले सारे गम को
मैं भूल जाती।
फिर से बचपन वाली
सारी मजा मै उठाती।

भूल जाती मै शहर का
यह तन्हा जीवन ।
फिर एक बार गाँव की
प्यारी हवा मैं खो जाती।
इंटर्नेट वाले खेल को छोड़कर ,
गांव वाले खेलो का
हिस्सा बन जाती।
फिर से नुक्कड़ पर वाली
समोसे और मिठाई का
स्वाद मै उठाती ।

फिर तालाब के बीच पत्थर
उछालकर मै खुश हो जाती।
फिर से डुग,डुगी बजाते
साईकिल वाले से बर्फ का गोला खाती,
और फिर से एकबार उस गोले,
मैं सारे फलो का स्वाद
भरकर चख पाती।

आसमान मे दूर- दूर तक
मै पंतग उड़ाती रहती।
तितलियो के पीछे भागकर
दूर-दूर तक मै जाती।

बगुले के पीछे मै भागती।
कोयल के आवाज संग
अपनी आवाज मिलाती।
छोटी- छोटी बचपन वाली
खुशियों मै खुश हो जाती।

न इतने बड़े सपने होते है,
न इतना दुख उठाती।
काश जिन्दगी मुझको
मेरा बचपन लौटा देती।

काश तुम उपहार स्वरूप
मेरा बचपन मुझे लौटा देती।
मेरी खुशियाँ एकबार मुझको
फिर से मिल जाती।

काश जिन्दगी तू ऐसा कुछ कर पाती!

~अनामिका

5 Likes · 4 Comments · 102 Views
You may also like:
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अस्मतों के बाज़ार लग गए हैं।
Taj Mohammad
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
चला कर तीर नज़रों से
Ram Krishan Rastogi
In love, its never too late, or is it?
Abhineet Mittal
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
किस्मत ने जो कुछ दिया,करो उसे स्वीकार
Dr Archana Gupta
शेर राजा
Buddha Prakash
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
"अशांत" शेखर
** The Highway road **
Buddha Prakash
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
परदेश
DESH RAJ
तो ऐसा नहीं होता
"अशांत" शेखर
या इलाही।
Taj Mohammad
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
डरता हूं
dks.lhp
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
Loading...