Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 14, 2022 · 2 min read

काश….! तू मौन ही रहता….

तेरे लफ़्ज़ों ने…..
बाँध बना कर….
तब्दील कर दिया मेरे प्यार को……
एक शान्त झील में….!
सिर्फ़ पाँच शब्द बोलकर…..!
काश….
तू मौन ही रहता….
तो शायद संभल जाता…
मेरा प्यार ….।।

था एक वक़्त….
मेरा प्यार इतराता इठलाता….
बिखेर जाता….
अपने ह्रदय के उद्गार……!
हिचकोले लेता मस्त पवन सा….
भर लेता तुझे अपने आगोश में….!
और…
बरस जाता सुधारस बनकर….
इंद्रधनुष के रंगों सा….!
जिसमें सराबोर हो पिघल जाती मैं…..
और हो जाती पानी-पानी…!
बहने लगता मेरा प्यार….
देह के रोम-रोम से…
निर्मल निश्छल झरने सा….!
पर….
तेरे लफ़्ज़ों ने…..
बाँध बना कर….
तब्दील कर दिया मेरे प्यार को……
एक शान्त झील में….!
सिर्फ़ पाँच शब्द बोलकर…..!
काश….
तू मौन ही रहता….
तो शायद संभल जाता…
मेरा प्यार ….।।

एक वक़्त और था….
जब सहम गया था वो….
दुनिया के थपेड़ों से….
स्वार्थी परिन्दों से….!
जा छुपा…
दिल के किसी तहखाने में….!
घायल पड़ा था….
अपने अस्तित्व की तलाश में….
अपने हमदर्द….
हमदम व हमरूप की आस में…..!
तभी…
घनी वादियों को चीरती…..
एक किरण….
तेरे अनुपम स्वरूप में…..
खींच लाई….
उस प्यार को तहखाने से…!
तेरे प्रकाश में डूबकर….
एहसास हुआ…
कि तू वही है…
जिसकी उसे तलाश थी…..!
और…
चला आया खिंचा…..
तेरी उस नन्हीं सी किरण के साथ…..
बिछ गया तेरे कदमों तले….
कर खुद को समर्पित…..!
पर….
तेरे लफ़्ज़ों ने…..
बाँध बना कर….
तब्दील कर दिया मेरे प्यार को……
एक शान्त झील में….!
सिर्फ़ पाँच शब्द बोलकर…..!
काश….
तू मौन ही रहता….
तो शायद संभल जाता…
मेरा प्यार ….।।

एक आज का वक़्त है….
अब लौट गया फिर….
वापस वहीं….
जहाँ से खिंचा चला आया था…
मेरा प्यार….!
हो गया गुम….
उसी तहखाने में….
और…
कर लिया खुद को दफ़न….!
उड़ा दी….
लबों पर बिखरती मुस्कुराहट….
और हँसगुल्लों की चादर….!
बस इसी इन्तज़ार में…
कि कब उघाड़ेगा तू उसे…?
कब तोड़ेगा अपना बनाया हुआ बांध….?
कब करेगा…?
इज़हार अपने प्यार का….
रूहों के दीदार का….!
पता नहीं…
पर…
तेरे लफ़्ज़ों ने…..
बाँध बना कर….
तब्दील कर दिया मेरे प्यार को……
एक शान्त झील में….!
सिर्फ़ पाँच शब्द बोलकर…..!
काश….
तू मौन ही रहता….
तो शायद संभल जाता…
मेरा प्यार ….।।

© डॉ० प्रतिभा ‘माही’

6 Likes · 4 Comments · 306 Views
You may also like:
मां ने।
Taj Mohammad
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
✍️सूर्यज्वाळा✍️
'अशांत' शेखर
✍️चराग बुझा गयी✍️
'अशांत' शेखर
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
#अपने तो अपने होते हैं
Seema 'Tu haina'
✍️छांव और धुप✍️
'अशांत' शेखर
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
आईना हूं सब सच ही बताऊंगा।
Taj Mohammad
" बिल्ली "
Dr Meenu Poonia
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
प्रेम की किताब
DESH RAJ
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
खानाबदोश ज़िंदगी
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
आईने की तरह मैं तो बेजान हूँ
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
इंसानो की यह कैसी तरक्की
Anamika Singh
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बेरोजगार
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
मांडवी
Madhu Sethi
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
*सादा जीवन उच्च विचार के धनी कविवर रूप किशोर गुप्ता...
Ravi Prakash
Loading...