#9 Trending Author

# काव्य विविधा # अनुक्रमांक-3 # तूं है जननी भारत माँ, तेरा जाणै ना कोऐ भा, सबकी तूं कल्याणी री, शक्ति-जगदम्बा ।। टेक ।।

# काव्य विविधा # अनुक्रमांक-3 #

तूं है जननी भारत माँ, तेरा जाणै ना कोऐ भा,
सबकी तूं कल्याणी री, शक्ति-जगदम्बा ।। टेक ।।

सरस्वती बणके तूं, सबके कंठ पै रहती है,
लोक-पावनी सै, पवित्र दुनिया कहती है,
बहती है सबनै बेरा, था शिवजी के सिर पै डेरा,
तेरा सै अमृत पाणी री, आई बणके नै गंगा ।।

इंद्राणी-लक्ष्मी बणी, ब्रह्मा की ब्रह्मवती,
तारा-अनसूईयां बणी, राम की सिया सती,
पार्वती कैलाशी की, तारण आली काशी की,
बणी झांसी की राणी री, होई देश पै कुर्बा ।।

नारद का मन मोहया, बणी थी विषयमोहनी री,
सुर्य की छाया बणी, चंदा की रोहणी री,
होणी भद्राकाली री, चण्डी शेरावली री,
चाली हंस-वाहिनी री, तूं कर मै भाला ठा ।।

कहै राजेराम तेरी मै, दुर्गे विनती करूं,
बात का गालिम सा भरज्या, इसे मै काफिऐ धरूं,
मांगेराम गुरूं मिलज्या, पायें लागू शीश झुका,
आ समरूं मात भवानी री, दिए दर्श दिखा ।।

188 Views
You may also like:
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
देशभक्ति के पर्याय वीर सावरकर
Ravi Prakash
सलाम
Shriyansh Gupta
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
टूटता तारा
Anamika Singh
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता
Keshi Gupta
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
पिता का पता
श्री रमण
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
श्रृंगार
Alok Saxena
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
तेरा रूतबा है बड़ा।
Taj Mohammad
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Loading...