#10 Trending Author

# काव्य विविधा # अनुक्रमांक-1 # समरूं तनै हमेश मैं, करिये बेड़ा पार भवानी री, आज मनाई, दुर्गे माई री ।। टेक ।।

# काव्य विविधा # अनुक्रमांक-1 #

समरूं तनै हमेश मैं, करिये बेड़ा पार भवानी री,
आज मनाई, दुर्गे माई री ।। टेक ।।

पार्वती बणकै तनै, शिवजी का निभाया साथ,
सागर मै तै प्रकट होई, नाम पड़या लक्ष्मी मात,
नारायण बरे थे तनै, दीनबंधु-दीनानाथ,
सावत्री-ब्रह्मभादवी, ब्रह्मा की ब्रहमाणी री,
शक्ति रूप-योगमाया, जगदम्बे कल्याणी री,
शम्भू मनु की बणी थी, शतरूपा राणी री,
जगजननी के भेष म्य, रच्या तनै संसार भवानी री ।।

त्रियारूप-त्रिनेता, त्रिशुल धारी माई री,
हाथ के म्हां भाला, शेर की सवारी माई री,
मंतगी-मंतग ऋषि थे, पुजारी माई री,
दक्ष कन्या रूद्राणी, गिरजा-गौरी माई री,
साध्वी-भयप्रिता सती, सत की डोरी माई री,
भद्राकाली-चण्डी कृष्णा, किशोरी माई री,
तेरी जोत रवि-राकेश मै, तूं शक्ति का औतार भवानी री ।।

बंबई मै मुम्बा देबी, पार्वती की अवतार,
कलकते मै काली माई, करने आली बेड़ा पार,
कश्मीर मै विष्णु देबी, मनशां देबी हरिद्वार,
चण्डी बणकै चकवेबैन की, खपाई फौज देबी,
वीर विक्रमाजीत छलिया, जैनी राजा भोज देबी,
अकबर शाह भी आया करता, नंगे पाया रोज देबी,
तेरी महिमा देश-विदेश मै, किसी होरी जय-जयकार भवानी री ।।

मानसिंह बतागे तेरे, एक-सौ-आठ नाम देबी,
लखमीचंद नै मान्या तेरा, सच्चा दूर्गे-धाम देबी,
दंगल मै मनाया करते, गुरू मांगेराम देबी,
रसना पै बास करों, सरस्वती मात ज्वाला,
किते भी ना पायी हामनै, टोहे सै मंदिर-शिवाला,
चौबीस घंटे ध्यावै तनै, राजेराम लुहारी आला,
रंगत ल्यावै ठेस मै, कली बणादी चार भवानी री ।।

165 Views
You may also like:
कामयाबी
डी. के. निवातिया
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आशाओं के दीप.....
Chandra Prakash Patel
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
लड़ते रहो
Vivek Pandey
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H.
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
उस रब का शुक्र🙏
Anjana Jain
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
वेलेंटाइन स्पेशल (5)
N.ksahu0007@writer
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H.
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
वेवफा प्यार
Anamika Singh
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
☆☆ प्यार का अनमोल मोती ☆☆
Dr. Alpa H.
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...