Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 16, 2022 · 1 min read

कारस्तानी

लम्हों ने दर्द दिया यहाँ
कतरों ने उसे संजोया है I
टूटे ख्वाबों के टुकड़ों को
दिल के ऊसर में बोया है I
ये बिखरी हुई मेरी हस्ती
वक़्त की कारस्तानी है I
उमड़ी आँखों में एक गंगा
हर आंसू एक कहानी है I

48 Views
You may also like:
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
तलाश
Dr. Rajeev Jain
छोड़कर ना जाना कभी।
Taj Mohammad
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
✍️दरिया और समंदर✍️
"अशांत" शेखर
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
संघर्ष
Anamika Singh
वर्षा
Vijaykumar Gundal
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
✍️माय...!✍️
"अशांत" शेखर
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
पिता
Saraswati Bajpai
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रसीला आम
Buddha Prakash
✍️बगावत थी उसकी✍️
"अशांत" शेखर
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
Loading...