Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कारण के आगे कारण

व्यंग्य

कारण के आगे कारण
कारण के पीछे कारण

कारण के आगे भी कारण होते हैं। कारण के पीछे भी कारण होते हैं। कारण कभी कारण नहीं होता। कारण कभी अकारण नहीं होता। कारण न जानने के लिए कितने कारण होते हैं। कारण को न जानने के भी कई कारण होते हैं। कारण करुणा है। यह हर हृदय में पाई जाती है। पूरा जीवन कारण जानने में निकल जाता है। हम क्यों आये? किसलिए आये? क्या किया? यही सवालों का उत्तर हमको नहीं मिल पाता। हमारे धरती पर आने के पीछे भी कुछ कारण हैं। एक-या तो घर में जरूरत थी। या हमारे बिना संसार नहीं चल रहा था। तीसरा कारण अज्ञात है। यानी हम जबरदस्ती आये। घर में चाह नहीं थी। उमंग नहीं थी। लेकिन हमारा धरती पर अवतार हो गया। हम बड़े हुए, फिर इसी खोज में लग गये, हम क्यों आये। स्कूल गये तो कारण ही कारण थे। हजारों सपने थे। ये बनेगा…वो बनेगा। यानी कारण ही कारण थे। नौकरी लगी तो कारण ही कारण थे। अकारण प्रश्न थे और हम उनका कारण जानने के लिए सिर धुन रहे थे। जिनका हमसे मतलब नहीं। उनका कारण जानने में जुटे थे। यानी कारण के पीछे कारण थे। घर चलाना था। पेट भरना था। सो कारण ढूंढने में जुट गये। सेंसेक्स से लेकर सांसों तक के कारण हमारी टिप्स पर थे। हाथों में मोबाइल था। हमारी आंखों में सपने थे। उत्सुकता थी। हम कारण जानने में जुटे थे।
कारण न होता तो क्या होता। कारण तलाश करने के लिए पूरी मशीनरी काम करती है। सरकारी महकमे तो इसी वजह से चलते हैं। हजारों कर्मचारियों-अधिकारियों को पगार इसलिए ही मिलती है। पूरी सर्विस में कारण अज्ञात ही रहते हैं। जैसे किसी की हत्या हुई। कारण अज्ञात थे। यह बरसों तक अज्ञात रहते हैं। फिर केस होता है। पैरोकारी होती है। अधिवक्ता अपने बुद्धि-विवेक-तर्क से कारण का कारण जानने का प्रयास करते हैं। कभी कारण का कारण पता लग जाता है। कभी नहीं। कारण पता भी लग जाये तो कारण अंतिम नहीं होता। उसके पीछे और भी कारण होते हैं। तह में जाकर अनेक कारण मिलते हैं। अणुओं की मानिंद। सूर्य की किरणों की मानिंद। सिर में इतने बाल क्यों हैं? नाक का बाल भी अकारण नहीं है।
नाक में बाल का भी कारण है। यह कारण आज तक अज्ञात है। यानी कितने आये और चले गये…मुहावरा बन गया लेकिन नाक का बाल नाक में रहा। यह कान तक नहीं आया। तफ्तीश भी नहीं हुई। हुक्मरान ने कभी नहीं विचारा…यह मुहावरा क्यों रचा गया। न आयोग बना। न जांच समिति बनी। न रिपोर्ट आई। सरकारी मशीनरी भी बिना कारण, कारण नहीं ढूंढती। उसके पीछे भी कारण होते हैं। कारण का पता करने के लिए बाकायदा एक पीठ काम करती है। वह यह पता करती है कि कारण क्यों कारण है? कारण पता भी चल जाये तो इसके क्या कारण होंगे। शोध पीठ न जाने कितने कारण रोज ढूंढती है। पीएचडी अवार्ड उनको मिलता है जो कारणों पर शोध करते हैं कि यह कारण पता नहीं लगा। यह शोध यहीं पूरा नहीं होता। होता रहता है। जहां पर बात खत्म मान ली जाती है, उससे आगे बढ़ती है। दूसरा शोध करता है। फिर तीसरा। यानी शोधकर्ता कारण-दर-कारण बढते जाते हैं और कारण के पीछे कारण चलते रहते हैं।
हम अपने इर्द-गिर्द देखें। रोजाना कारण ही कारण हैं। सुबह हम कारण जानने निकलते हैं। शाम को मुंह लटकाए आ जाते हैं। पत्नी पूछती है…कारण पता लगा? हम क्या जवाब दें। कारण तो अकारण है। कारण ने एक बार कारण से पूछा…तुम कारण क्यों हो। तुममें ऐसा क्या है जो कोई नहीं जान सका। कारण बोला…मैं ही सच हूं। सत्य सनातन हूं। आगे-पीछे मेरे कोई नहीं। अर्जुन को श्रीकृष्ण ने कारण बताये। अर्जुन ने किसी को नहीं बताये। वह युद्ध लड़ा। कारण….? यही तो कारण था जो इतने साल से चला आ रहा है। हमारे नेता, अफसर, पत्रकार, कर्मचारी,कवि, लेखक सब इसी में जुटे हैं…कारण को कारागार में डालो। कोई क्या बताये…हर चीज का कारण नहीं होता। उदाहरण-सावन में ही आग क्यों लगती है? अगर सावन में लगती है तो बाज़ार में क्यों लगती है? दोनों का है कोई तालमेल ? कवियों ने लिख दिया तो मान लिया, सावन में आग लगती है। अब कारण कौन पूछे?
कारण अकारण भी होता है। ठीक वैसे ही, जैसे घर में पत्नी ही भूल जाती है कि हम क्यों लड़ रहे थे। नेता भूल जाते हैं कि हम फलां क्यों आये हैं। वहां क्या कहना है। क्या बोलना है। कारण अनेक होते हैं। कारण स्वतंत्र होते हैं। यह एक फाइल की तरह है। लाल फाइल। हरी फाइल। पीली फाइल। इन सभी में कारण अनेक होते हैं। फाइल क्यों लौटी…इसके पीछे भी कारण होते हैं। फाइल स्वीकृत हुई, इसके पीछे भी कारण होते हैं। कारण एक बांध की तरह हैं। बह जाते हैं। कारण एक सतत प्रक्रिया है। जब तक सांस है। चलती रहती है। कारण कभी अकारण नहीं होते। कारण के पीछे भी कारण होते हैं। लिखने के पीछे भी कारण होते हैं। बिकने के पीछे भी कारण होते हैं। आने के भी कारण होते हैं। जाने के पीछे भी कारण होते हैं। कारण नाक का बाल है। जो हर इंसान में पाया जाता है। चूंकि अरबों की आबादी है। आबादी की गणना में यह निकले नहीं। पता नहीं….क्या कारण रहे????
-सूर्यकांत द्विवेदी

58 Views
You may also like:
” REMINISCENCES OF A RED-LETTER DAY “
DrLakshman Jha Parimal
मैंने उस पल को
Dr fauzia Naseem shad
खुदा का वास्ता।
Taj Mohammad
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मन
शेख़ जाफ़र खान
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
प्रकृति के साथ जीना सीख लिया
Manoj Tanan
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
नया सपना
Kanchan Khanna
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
विरहनी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
✍️अच्छे दिन✍️
'अशांत' शेखर
किसी के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
💐दोषानां निवारणस्य कृते प्रार्थना💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"एक यार था मेरा"
Lohit Tamta
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
इनक मोतियो का
shabina. Naaz
✍️अपने शामिल कितने..!✍️
'अशांत' शेखर
आंखों में जब
Dr fauzia Naseem shad
घर की पुरानी दहलीज।
Taj Mohammad
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
Loading...