Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

काफिर कौन..?

काफिर कौन..?
~~°~~°~~°
कहता हूँ मैं ये खुदा से, यहाँ सब तेरे ही बंदे हैं ,
काफिर नही कोई जग में,सब तेरे ही बाशिंदे हैं ।
फ़राख़दिल कभी भी काफिर हुआ नहीं करते,
काफिर तो बस वे ही ,जो आतंक के कारिंदे हैं।

परवरदिगार की रहमत सबपर,जो भी उनके बंदे हैं।
बसता है सबमें प्राण उनका ,चाहे जन हो या परिंदे हैं।
जीवन मिला है अनुपम,सज्दा करे हम सभी मिलकर ,
बेवजह बहाते जो लहु,खुदा के लिए वो काफिर दरिंदे हैं।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – २३/०९/२०२२
आश्विन, कृष्ण पक्ष ,त्रयोदशी,शुक्रवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

1 Like · 77 Views
You may also like:
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झूला सजा दो
Buddha Prakash
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
बंदर भैया
Buddha Prakash
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
Loading...