Aug 30, 2016 · 1 min read

कान्हा

देवकी का पुत्र था नन्द का वो प्यार भी
वासु ने उसको दिया था एक नव संसार भी

गोपियों को देख मोहन फोड़ता है मटकियाँ
माँ यशोदा बाँध उसको दे रही दुत्कार भी

रोज ही माखन चुरा खाता तभी तो चोर है
आ गया है हाथ माँ के तब मिली फटकार भी

हाथ में कान्हा रखे जिस चक्र को भी पास है बैरियों का जो दमन कर दे वहीं तो औजार भी

प्रेम कान्हा से किया है गोपियों ने खूब ही
छोड़ राधा ने जहाँ सारा किया इकरार भी

देश पूरा ही मनाता जन्म दिन भी कान्ह का
प्रीत धागें में पिरो कर फिर मना त्यौहार भी

हो न कोई दीन दुखिया आज सारे ही जहाँ
फिर सजे इस लोक में भी द्वारिका दरवार भी

डॉ मधु त्रिवेदी

71 Likes · 203 Views
You may also like:
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
लाचार बूढ़ा बाप
The jaswant Lakhara
विसाले यार
Taj Mohammad
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
ऊपज
Mahender Singh Hans
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
प्रेरक संस्मरण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
देवता सो गये : देवता जाग गये!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:36
AJAY AMITABH SUMAN
खाली पैमाना
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
परवाना बन गया है।
Taj Mohammad
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...