Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2022 · 1 min read

कान्हा

?️?️कान्हा?️?️
मुरली की मनोहर धुन,
उर को विभोर लागत है।
राधा के संग रास रचावैं,
कान्हा झांझ बजावत हैं।।

सखियां झूमें कान्हा संग,
राधा रानी नाचत हैं।
वंशीधर साथ रंभाती गउयें,
जो मन को बहुत लुभावत है।।

मयूर करे पिहुं-पिहुं,
जो मन को सुंदर लागत है।
बांसुरिया बाजे कान्हा की,
जो उर को बहुत लुभावत है।।

सुषमा सिंह *’उर्मि,,

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 218 Views

Books from Sushma Singh

You may also like:
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
✍️अस्तित्वाच्या पाऊलखुणा
✍️अस्तित्वाच्या पाऊलखुणा
'अशांत' शेखर
बंधे धागे प्रेम के तो
बंधे धागे प्रेम के तो
shabina. Naaz
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
Khem Kiran Saini
चलती है जिन्दगी
चलती है जिन्दगी
डॉ. शिव लहरी
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
■ जानिए आप भी...
■ जानिए आप भी...
*Author प्रणय प्रभात*
अपने वजूद की
अपने वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
అభివృద్ధి చెందిన లోకం
అభివృద్ధి చెందిన లోకం
विजय कुमार 'विजय'
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
गुमनाम
गुमनाम
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
"फल"
Dushyant Kumar
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जादुई कलम
जादुई कलम
Arvina
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
तुम जोर थे
तुम जोर थे
Ranjana Verma
Writing Challenge- बुद्धिमत्ता (Intelligence)
Writing Challenge- बुद्धिमत्ता (Intelligence)
Sahityapedia
खुशी और गम
खुशी और गम
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or...
Leena Anand
माघी दोहे ....
माघी दोहे ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
गर्व से कहो हम...
गर्व से कहो हम...
Shekhar Chandra Mitra
“मैं बहुत कुछ कहना चाहता हूँ”
“मैं बहुत कुछ कहना चाहता हूँ”
DrLakshman Jha Parimal
फक़त हर पल दूसरों को ही,
फक़त हर पल दूसरों को ही,
Aksharjeet Ingole
गेसू सारे आबनूसी,
गेसू सारे आबनूसी,
Satish Srijan
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
*पितृ-वंदना (गीत)*
*पितृ-वंदना (गीत)*
Ravi Prakash
बरसात की रात
बरसात की रात
Surinder blackpen
💐प्रेम कौतुक-294💐
💐प्रेम कौतुक-294💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...