Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2016 · 1 min read

कान्हा तुम आ फिर से जाना

कान्हा तुम आ फिर से जाना
चित्त चुरा कर फिर ले जाना

बाँसुरी बजा कर मधुर मधुर
उर में आज समाते जाना

बन राधा प्रीत तुझे करती
लौं प्रेम की जलाये जाना

प्रेम दिवानी मीरा जैसी मैं
दर्शन मुझको तुम दे जाना

मार कंकड़ मटके फोड़ यहाँ
माखन मिश्री चुराते जाना

राज्य करे नर असुर यहाँ
उन असुरों को मारे जाना

भाँति -भाँति की गोपियाँ यहाँ
दिल में उनके बसते जाना

दुष्टों से व्याकुल जनजीवन
प्राण कंसों के हरते जाना

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
Tag: कविता
73 Likes · 210 Views
You may also like:
बस तू चाहिए।
Harshvardhan "आवारा"
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोस्ती
shabina. Naaz
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
परिन्दे धुआं से डरते हैं
Shivkumar Bilagrami
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
जिज्ञासा
Rj Anand Prajapati
उम्मीद मुझको यही है तुमसे
gurudeenverma198
रोशन सारा शहर देखा
कवि दीपक बवेजा
श्री राजा राम राज्य रामायण
अरविन्द व्यास
योगा
Utsav Kumar Aarya
विरासत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पर्यावरण
विजय कुमार 'विजय'
" शीतल कूलर
Dr Meenu Poonia
गजल क्या लिखूँ कोई तराना नहीं है
VINOD KUMAR CHAUHAN
अज्ञान
पीयूष धामी
हे शिव ! सृष्टि भरो शिवता से
Saraswati Bajpai
*रावण हारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कहां से दुआओं में असर आए।
Taj Mohammad
दिए जो गम तूने, उन्हे अब भुलाना पड़ेगा
Ram Krishan Rastogi
पापाचार बढ़ल बसुधा पर (भोजपुरी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जमी हुई धूल
Johnny Ahmed 'क़ैस'
पार्क
मनोज शर्मा
फ्यूज बल्ब क्या होता है ?
Rakesh Bahanwal
दिल का तुमको
Dr fauzia Naseem shad
✍️✍️जूनून में आग✍️✍️
'अशांत' शेखर
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
हिजाब विरोधी आंदोलन
Shekhar Chandra Mitra
Loading...