Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 9, 2016 · 1 min read

कातिल हमारा मुकर गया

कभी किस्मत कभी फिर सहारा मुकर गया
कश्ती जो लगी पार फिर किनारा मुकर गया
*********************************
लगा के धार भी दी हमने खुद खंजर पे मगर
वक्त जो आया कातिल फिर हमारा मुकर गया
*********************************
कपिल कुमार
09/08/2016

1 Comment · 123 Views
You may also like:
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
अपना भारत देश महान है।
Taj Mohammad
उम्मीद पर है जिन्दगी
Anamika Singh
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
मां से बिछड़ने की व्यथा
Dr. Alpa H. Amin
अथक प्रयत्न
Dr.sima
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
आजादी का जश्न
DESH RAJ
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डर काहे का..!
"अशांत" शेखर
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
कश्मीर की तस्वीर
DESH RAJ
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
युवता
Vijaykumar Gundal
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
THANKS
Vikas Sharma'Shivaaya'
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
Loading...