Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 8, 2022 · 1 min read

कातिलाना अदा है।

तुम्हारा हर अश्क जो नजरों से तुम्हारी गिर रहा है।
पता है हमें बेवफ़ा ये तेरी झूठी कातिलाना अदा है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

99 Views
You may also like:
जो देखें उसमें
Dr.sima
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
गीत - मुरझाने से क्यों घबराना
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
“ मिलकर सबके साथ चलो “
DrLakshman Jha Parimal
आव्हान - तरुणावस्था में लिखी एक कविता
HindiPoems ByVivek
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
वक्त को कब मिला है ठौर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्यो अश्क बहा रहे हो
Anamika Singh
रोता आसमां
Alok Saxena
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
✍️ये जरुरी नहीं✍️
'अशांत' शेखर
कलम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
सावधान हो जाओ, मुफ्त रेवड़ियां बांटने बालों
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️कलम और चमच✍️
'अशांत' शेखर
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
पहले जैसे रिश्ते अब क्यों नहीं रहे
Ram Krishan Rastogi
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
सुरज दादा
Anamika Singh
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
Ravi Prakash
" जंगल की दुनिया "
Dr Meenu Poonia
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
"सुकून की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
Loading...