Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 8, 2021 · 1 min read

काटो ना मुझे

काटो न मुझे
कहते सब पेड़ ,
पछताओगे।

शुद्ध हवा मैं
देता धरती को,
कहाँ पाओगे।

बाढ़ सुनामी
भयंकर तबाही,
आती रहेगी।

प्रकृति जब
डालेगी मुश्किल में
काया डरेगी।

तुम मिलाये
विष जलाशय में,
क्या पिओगे?

धुंध औ धुंआ
समां में पसरी है,
कैसे जिओगे?

तप रहा है
हिमालय हृदय से,
गल रहा।

अपना दर्द
पिघलकर कहे,
सुनामी आवे।

जल वायु भू
किया सब दूषित,
कहाँ रहोगे?

सांसे अटकी
जीने की अभिलाषा,
कम हो रही।

करना होगा
सबको खयाल यूँ,
बचे जीवन।

देखभाल हो
जरुरी, हर एक,
लगाएँ वृक्ष।

केवल पेड़
नितांत जरूरी हो,
तब कटे।

कटे एकम
लगे तरु दशम,
ऐसी मुहिम।

धरा हमारी
हरियाली से युक्त,
होगी सुंदर।

स्वस्थ होंगे
जन तन निरोग,
सुंदर काया।

3 Likes · 304 Views
You may also like:
*खिलता कमल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चाहत की बाते
Dr. Sunita Singh
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️पत्थर-दिल✍️
'अशांत' शेखर
✍️यही तो आखिर सच है...!✍️
'अशांत' शेखर
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️मेरा हमशक्ल है ✍️
'अशांत' शेखर
" COMMUNICATION GAP AMONG FRIENDS "
DrLakshman Jha Parimal
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
दिल के रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
जगाओ हिम्मत और विश्वास तुम
gurudeenverma198
ज़िक्र तेरा
Dr fauzia Naseem shad
💐💐 सूत्रधार 💐💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आंसू
Harshvardhan "आवारा"
#मेरे मन
आर.एस. 'प्रीतम'
श्रावण सोमवार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
✍️हम वतनपरस्त जागते रहे..✍️
'अशांत' शेखर
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
एक संकल्प
Aditya Prakash
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
इंसा का रोना भी जरूरी होता है।
Taj Mohammad
खुशियों का मोल
Dr fauzia Naseem shad
करके शठ शठता चले
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:38
AJAY AMITABH SUMAN
" छुपी प्रतिभा "
DrLakshman Jha Parimal
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
Loading...