Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#8 Trending Author
Apr 5, 2022 · 1 min read

कांटों पर उगना सीखो

आज बगिया में था सम्मेलन
फूलों का और कलियों का
लिए शिकायत खड़े हुए थे
सब अपनी मंडलियों का
कमल सुने फूलों की दूविधा
दूर खड़ा हो पानी में
तितली भंवरे देख रहे थे
सम्मेलन हैरानी में
सभी कहें गुलाब को ही क्यों
चाहते हैं सबसे ज्यादा
हमको सभी रौंद देते हैं
गुलाब नहीं रौंदा जाता
कहा कमल ने हंसते-हंसते
कुछ तो तुम इनसे सीखो
तुमको भी सब प्यार करेंगे
कांटों पर उगना सीखो
सभी देख रहे एक दूजे को
समझ लिया सच्चाई को
अपना-अपना जीवन है ये
समझो आप खुदाई को
इतने में माली आ गया
खिले फूलों को चुनने को
कमल बोला फिर सम्मेलन होगा
सबकी बातें सुनने को

3 Likes · 99 Views
You may also like:
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H. Amin
कलम
Dr Meenu Poonia
महेंद्र जी (संस्मरण / पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
यादों की भूलभुलैया में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️'महा'राजनीति✍️
"अशांत" शेखर
अवधी की आधुनिक प्रबंध धारा: हिंदी का अद्भुत संदोह
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
पापा
Nitu Sah
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी...
Ravi Prakash
सफर
Anamika Singh
मेरी प्रिय कविताएँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भारतीय युवा
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
** यकीन **
Dr. Alpa H. Amin
भाग्य की तख्ती
Deepali Kalra
देखो
Dr.Priya Soni Khare
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
मुखौटा
Anamika Singh
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** बेटी की बिदाई का दर्द **
Dr. Alpa H. Amin
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
तोड़कर तुमने मेरा विश्वास
gurudeenverma198
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H. Amin
Loading...