Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

काँटा …

मैं काँटा हूँ
जाने कितने काँटे चुभा दिये लोगों ने
मेरे बदन में अपने शूल शब्दों के

जमाने ने देखी तो सिर्फ
मुझसे मिलने वाली वेदना को देखा
मेरी तीक्ष्ण नोक को देखा
मेरे से वितृष्णा की
अपशब्दों के तीक्ष्ण शरों से मेरे अन्तस को
क्षत -विक्षित किया

मगर मुझसे तो अधिक तीक्ष्ण काँटे
लोग अपने दिलों में
संजो कर बैठे हैं
काँटे नफरत के
स्वार्थ के
विनाश के
मगर छुपा लेते हैं अपनी मंशा को
कुटिल मुस्कान के पीछे

मैं
पुष्प की रक्षा करता हूँ
मैं चुभता हूँ तो
पथ की निर्ममता से सचेत करता हूँ
मेरी चुभन
असावधानी का पूर्व संकेत होता है
इन सबके बावजूद भी
मैं सिर्फ अपशब्दों से नवाजा जाता हूँ
क्योंकि
मैं काँटा हूँ
फर्क सिर्फ इतना है कि
लोगों के दिलों में काँटे हैं
और
मेरे दिल में
कोई काँटा नहीं

सुशील सरना/18-1-24
मौलिक एवं अप्रकाशित

96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"ला-ईलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
आत्महत्या कर के भी, मैं जिंदा हूं,
Pramila sultan
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
हुनर से गद्दारी
हुनर से गद्दारी
भरत कुमार सोलंकी
कल की फ़िक्र को
कल की फ़िक्र को
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार है
Neeraj Agarwal
अहंकार
अहंकार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अनोखा दौर
अनोखा दौर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
संवेदना(कलम की दुनिया)
संवेदना(कलम की दुनिया)
Dr. Vaishali Verma
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
छाऊ मे सभी को खड़ा होना है
छाऊ मे सभी को खड़ा होना है
शेखर सिंह
3316.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3316.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
*माँ*
*माँ*
Naushaba Suriya
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
अब क्या बताएँ छूटे हैं कितने कहाँ पर हम ग़ायब हुए हैं खुद ही
Neelam Sharma
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
मैं अपनी खूबसूरत दुनिया में
ruby kumari
अनुराग
अनुराग
Bodhisatva kastooriya
दोनो कुनबे भानुमती के
दोनो कुनबे भानुमती के
*Author प्रणय प्रभात*
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
दुष्यन्त 'बाबा'
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
हम आगे ही देखते हैं
हम आगे ही देखते हैं
Santosh Shrivastava
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
मेरे शब्दों में जो खुद को तलाश लेता है।
मेरे शब्दों में जो खुद को तलाश लेता है।
Manoj Mahato
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
ये बात पूछनी है - हरवंश हृदय....🖋️
हरवंश हृदय
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
*न्याय-व्यवस्था : आठ दोहे*
*न्याय-व्यवस्था : आठ दोहे*
Ravi Prakash
Loading...